अब सभी वाहनों पर अलग-अलग रंग के बैकग्राउंड वाली नंबर प्लेट लगेगी, जानिए आपका रंग कौन सा है

व्हीकल नंबर प्लेट कलर योजना 2021– 2022

जब भी हम कोई नया वाहन खरीदते है तो रीजनल ट्रांसपोर्ट ऑफिस (RTO) द्वारा वाहन के लिए एक नंबर दिया जाता है उस नम्बर  के द्वारा ही हमारा वाहन रीजनल ऑफिस में रजिस्टर होता है . हाल ही में सड़क एवं राजमार्ग मंत्रालय ने गाड़ियों पर लगने वाली नम्बर प्लेट की कलर स्कीम  से सम्बंधित योजना के बारे में एक नोटीफिकेशन जारी किया है . हमारे देश में कई प्रकार के वाहन चलते है जैसे पेट्रोल , डीजल , इलेक्ट्रिक इत्यादी . इन सभी वाहनों पर कौन से रंग की बैकग्राउंड वाली नम्बर प्लेट लगेगी और कौन से रंग से उस पर नम्बर लिखा जायगा इसके बारे में सरकार ने बकायदा एक गाइड लाइन तय कर रखी है उसी के अनुसार नम्बर प्लेट लगेगी

colour-scheme-vehicle-number-plates-india

नम्बर प्लेट का क्या मतलब होता है

हम सभी ने अलग – अलग प्रकार की गाड़ियों पर अलग – अलग रंग की नम्बर प्लेट देखी  हैं , प्रत्येक नम्बर प्लेट पर लिखे प्रत्येक नम्बर और अल्फाबेट का एक विशेष अर्थ  होता है , एक नम्बर प्लेट के द्वारा हम यह पता लगा सकते है की यह गाडी कौन से राज्य , कौन से शहर की है या इसका मालिक कौन है . आइये जानते है नम्बर प्लेट पर लिखे सभी न्यूमेरिक या अल्फाबेट का क्या मतलब होता है .

  • नम्बर प्लेट पर लिखे पहले 2 अल्फाबेट राज्य को प्रदर्शित करते है उदाहरण के तौर पर MP का अर्थ है मध्य  प्रदेश , UP का उत्तर प्रदेश आदि .
  •  उसके बाद के 2 नम्बर यह बताते है की यह गाड़ी किस जिले के रीजनल ट्रांसपोर्ट ऑफिस में रजिस्टर्ड  है ,
  • उसके बाद के 2 अल्फाबेट यह दर्शाते है की इस गाडी के रजिस्ट्रेशन की डिटेल कम्प्यूटर की किस डायरेक्टरी में सेव की गयी है ,
  • इसके बाद 4 नम्बर्स होते है जो प्रत्येक गाड़ी पर अलग होते है . यह नम्बर यूनिक होता है .

नम्बर प्लेट के प्रकार :-

  1. सबसे ज्यादा उपयोग की जाने वाली नम्बर प्लेट है सफ़ेद बैकग्राउंड जिस पर काले रंग से अल्फ़ाबेट और नम्बर  लिखे जाते है . यह नम्बर प्लेट प्राइवेट मतलब निजी उपयोग के वाहनों के लिए होती है . इस नम्बर प्लेट के वाहनों का उपयोग किसी भी कमर्शियल कार्य के लिए नहीं किया जा सकता .
  2. दूसरी सबसे ज्यादा चलने वाली नम्बर प्लेट है पीले रंग के बैकग्राउंड पर काले रंग से अल्फाबेट और नम्बर लिखे जाते है . यह नम्बर प्लेट पूर्ण रूप से कमर्शियल उपयोग में लाये जाने वाले वाहनों के लिए निर्धारित की गयी है . जैसे – बस , ट्रक , टैक्सी , केब , लोडिंग वाहन , स्कुल बस आदि . यह सभी वाहन किराये पर चलते है इन पर किसी ओर रंग की नम्बर प्लेट लगाना निषेध है .
  3. तीसरे नम्बर पर आती है काले रंग के बैकग्राउंड वाली नम्बर प्लेट जिस पर अल्फाबेट और नम्बर पीले रंग से लिखा जाता है . यह नम्बर प्लेट भी कमर्शियल वाहनों के लिए ही होती  है , लेकिन ये सेल्फ ड्राइव होती है . उदाहरण  – जूम कार .
  4. चौथे नम्बर पर आती है  हल्के नील रंग के बैकग्राउंड वाली नम्बर प्लेट जिस पर अल्फाबेट और नम्बर सफ़ेद रंग से लिखे होते है . यह गाडिया फोरेन एम्बेसी  या फिर UN मिधन के लिए  होती है , इस तरह की गाड़िया ज्यादातर बड़े शहरों दिल्ली आदि में ही देखने को मिलती है .
  5. लाला रंग की नम्बर प्लेट यह प्लेट भारत के राष्ट्रपति या किसी राज्य के गवर्नर को ही लगाने का अधिकार होता है . इन पर गोल्डन रंग से नम्बर लिखे होते है
  6. छठे नम्बर पर है तीर के निशान वाली नम्बर प्लेट जिन वाहनों के नम्बर प्लेट पर नम्बर से पहले एक तीर का निशान होता है , और  बैकग्राउंड काले रंग का होता है और इन पर लिखावट सफ़ेद  रंग की होती है , वे गाड़िया मिलेट्री से सम्बंधित होती है .
  7. सातवे, नम्बर पर आती  है हरे रंग की बैकग्राउंड वाली नम्बर प्लेट जिस पर अल्फाबेट और नम्बर पीले या सफ़ेद रंग से लिखे होते है . यह नम्बर प्लेट सड़क एवं राजमार्ग मंत्रालय ने इलेक्ट्रिक वाहनों के लिए निर्धारित की है .

नम्बर प्लेट से सम्बंधित कुछ नियम ;-

  1. मोटर व्हीकल नियम के अनुसार नम्बर प्लेट पर नम्बर केवल अंग्रेजी भाषा में ही होना चाहिए . अंग्रेजी के अलावा किसी अन्य भाषा में नम्बर लिखवाना नियम के विरुद्ध है .
  2. नम्बर प्लेट की लिखावट साधारण फॉन्ट में होना चाहिए जो दखने में आसन हो . फॉन्ट में किस भी प्रकार का डिजाइन या स्टाइल नहीं होना चाहिए .
  3. नम्बर प्लेट पर नम्बर के अलावा कुछ और लिखवाना भी नियम के विरुद्ध है जैसे कुछ लोग अपनी  गाड़ियों के नम्बर प्लेट पर अपना पद या अन्य कोई भी चीजें लिखवाते है जैसे – डॉक्टर , वकील आदि . नम्बर प्लेट को छोड़ कर गाडी के अन्य हिस्से में आप कहीं भी कुछ भी लिखवा सकते है .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *