हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट क्या है? | High Security Registration Plate HSRP Delhi in Hindi

दिल्ली में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट पंजीकरण, कीमत एवं जुर्माना ([हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट क्या है? इसके फायदे एवं विशेषता क्या हैं ? हाई सिक्योरिटी घोटाला क्या हैं ? [hsrpdelhi.com]

दिल्ली सरकार ने दिल्ली के वाहन चालकों के लिए पूरी तरह से हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट (एचएसआरपी) को शुरू करने के लिए पूरी तैयारी कर ली है. दोस्तों हम सभी जानते हैं कि जब भी हम नये वाहन के रजिस्ट्रेशन के लिए आरटीओ ऑफिस जाते हैं तो पिछले कुछ साल से सरकार हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट वितरित कर रही है. ये विशेष नंबर प्लेट है, जिसमें वाहन के मालिक और सुरक्षा की सारी जानकारी मौजूद होती है. और यह अब सभी वाहन चालकों के लिए अनिवार्य है. दिल्ली के परिवहन विभाग के अनुसार दिल्ली में कम से कम 40 लाख ऑटोमोबाइल्स ऐसे हैं, जिन्हें इस हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट के लिए आवेदन करना अनिवार्य है. सरकार ने इसके लिए कम से कम 1 महीने तक का समय दिया है

High Security Registration Number Plates for Car Owners in Delhi

1.योजना का नामदिल्ली में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट
2.योजना की शुरुआतदिल्ली मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल
3.योजना का लांचसन 2018
4.रजिस्ट्रेशन की शुरुआतअक्टूबर 2018 से
5.योजना की देखरेखदिल्ली परिवहन विभाग
6ऑनलाइन पोर्टल www.hsrpdelhi.com/
7शुल्क दो पहिया वाहन – 67 रुपए और चार पहिया वाहन- 213 रुपये
8जुर्माना शुल्क 500 रुपये

हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट क्या है (What is High Security Number Plate)

 हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट भारत में लाइसेंस प्लेट्स का स्टैण्डर्ड रूप है. इसकी खासियत यह है कि इसमें वाहन के मालिक की एवं उनके वाहन से जुड़ी सारी जानकारी निहित होती है. यह उनकी सुविधा एवं सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए बनाई गई है. इसकी शुरुआत 1 मई सन 2012 में की गई थी. यह वह प्लेट है जो पूरे देश में आपके वाहन के रजिस्ट्रेशन नंबर को प्रदर्शित करने का एक यूनिफार्म पैटर्न बनाती है. 

योजना के मुख्य बिन्दु (Key Features)

  • वाहन की जानकारी :– इसमें मौजूद होलोग्राम में वाहन से जुड़ी सारी जानकारी जैसे इंजन नंबर, 10 अंकों का आईडी नंबर और चेसी नंबर आदि होगा, जिससे संबंधित विभाग का काम आसान हो जायेगा.
  • हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट के लिए फीस :- इस हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट के लिए विभाग ने 2 पहिया वाहन के लिए 67 रूपये एवं 4 पहिया नये वाहन के लिए 213 रूपये की राशि तय की है.
  • जुर्माना :- यह विशेष नंबर प्लेट सभी वाहन चालकों को लेना अनिवार्य है. यदि वे इन नंबर प्लेट के लिए रजिस्ट्रेशन नहीं कराते है तो उन्हें दिल्ली परिवहन विभाग द्वारा इसके लिए जुर्माना के रूप में 500 रूपये देने होंगे. और अगर वे ऐसा नहीं करते हैं तो वाहन के मालिक को 3 माह की जेल की सजा भी दी जा सकती है.
  • ऑनलाइन भुगतान की प्रक्रिया :- इसके अलावा रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया के लिए आवेदक ऑनलाइन चैनल के माध्यम से अपनी रजिस्ट्रेशन फीस का भुगतान करने के लिए सक्षम होंगे.
  • फिटिंग सेंटर :- परिवहन विभाग द्वारा यह कहा गया है कि रजिस्टर्ड वाहन मालिक 13 आरटीओ केन्द्रों पर हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट प्राप्त करने में सक्षम होंगे. उन्हें लाइसेंस प्लेट फिटिंग के लिए इन सेंटर्स में अलग से किसी भी प्रकार का शुल्क नहीं देना होगा.
  • विशेष फ्यूल पहचान स्टीकर :- वाहन किस तरह के ईंधन से चल रहा है इसकी पहचान के लिए इस नंबर प्लेट पर एक विशेष रंग का स्टीकर लगाया गया है, जोकि इसकी पहचान करेगा.

आवेदन फॉर्म एवं आवेदन की प्रक्रिया (Application Form and Application Process)

  • सभी ऑटोमोबाइल मालिक अधिकारिक पोर्टल के माध्यम से इस विशेष हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट के लिए आवेदन करने के लिए सक्षम होंगे. यह वेबसाइट जल्द ही दिल्ली परिवहन विभाग द्वारा उल्लेखित की जाएगी.
  • इस नंबर प्लेट के रजिस्ट्रेशन 2 अक्टूबर से शुरू होना था, किन्तु कुछ कारणों से इसे स्थगित कर दिया गया है. इसे जल्द से जल्द शुरू किया जायेगा.
  • दिल्ली ऑथोरिटी द्वारा इसकी अधिकारिक वेबसाइट को जल्द ही लांच किया जायेगा. जहाँ से आवेदक डिजिटाइज्ड फॉर्म प्राप्त कर आवेदन कर सकते हैं.
  • फिर यहाँ आवेदकों को अपने वाहन से जुड़ी कुछ जानकारी जैसे वाहन रजिस्ट्रेशन प्रमाण पत्र, वाहन के मालिक का नाम, रजिस्ट्रेशन की अंतिम तारीख, वाहन के रजिस्ट्रेशन की तारीख एवं वाहन का प्रकार आदि जानकारी देनी होगी.
  • यह सभी जानकारी देने के बाद आपको फीस का भुगतान करना होगा. यह प्रक्रिया भी इसके पोर्टल के माध्यम से पूरी हो जाएगी.
  • एक बार यह प्रक्रिया पूरी हो गई और विभाग द्वारा सभी जानकारी इकठ्ठी कर लेने के बाद आवेदकों को अपनी नंबर प्लेट प्राप्त करने के लिए एक तारीख एवं समय प्रदान किया जाएगा. उस तारीख में आवेदक अपने पास के आरटीओ ऑफिस में जाकर यह नंबर प्लेट प्राप्त कर सकते हैं.

ऑनलाइन पोर्टल के जरिये स्टेटस देखने की प्रक्रिया :

  1. इसकी आधिकारिक साइट { hsrpdelhi.com ) यह हैं इस साइट के दिये गये लिंक [http://www.hsrpdelhi.com/status/orderstatus.aspx ]पर क्लिक करने पर आपको स्टेटस देखने का विकल्प मिलेगा.
  2. आपको वहाँ वहाँ का पंजीयन क्रमांक भरना होगा और सर्च पर क्लिक करना होगा इसके बाद आपको HSRP status Report मिलेगी, जहां आपको जानकारी मिलेगी

हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट की विशेषता एवं फायदे  (High Security Number Plates Specifications)

  • यह एक विशेष नंबर प्लेट हैं जिसे आप आसानी से पहचान नहीं कर सकते हैं.
  • यह नंबर प्लेट मूल रूप से एक साधारण नंबर प्लेट हैं, जोकि 1 एमएम की मोटाई के साथ एल्युमीनियम शीट के साथ बनाई गई है. जिससे यह लंबे समय तक चलेगी एवं पानी प्रतिरोधी होगी.
  • इस प्लेट में क्रोमियम आधारित होलोग्राम होगा. जिसे स्कैन करके विभाग वाहन मालिक की जानकारी निकाल सकता हैं.
  • यह प्लेट नॉन रिमूवेबल के साथ – साथ नॉन रियूसेबल भी हैं क्योकि उनके पास स्नैप लॉक है. अर्थात इसका फिर से उपयोग नहीं किया जा सकता, यदि यह भविष्य में टूट जाती है तो इस नंबर को आरटीओ द्वारा हटा दिया जायेगा.
  • यह अन्य नंबर प्लेट से बिलकुल ही अलग एवं यूनिक है इसे कोई भी कॉपी कर नहीं बना सकता है, तो यह चोरी एवं अन्य गलत उपयोग को रोकने में मददगार होगी.
  • इस प्लेट में मौजूद उपकरण ही इसे विशेष बनाते हैं, इस प्लेट के माध्यम से कोई भी वाहन चालक हो उसकी यूनिक जानकारी नेशनल डेटाबेस में सुरक्षित रहेगी, जोकि एक सेंट्रलाइज्ड रिकॉर्ड होगा.
  • इस नंबर प्लेट में मौजूद 7 अंकों का लेजर कोड प्रत्येक वाहन के लिए यूनिक होगा, इसलिए इससे किसी दुर्घटना या अपराध का पता लगाना आसान हो जायेगा. क्योकि इसमें वाहन के मालिक और उसके वाहन की तमाम जानकारी मौजूद होगी.
  • इस प्लेट में खास तौर पर एम्बॉस एवं क्रोमियम प्लेटेड नंबर होगा, जिससे किसी भी वाहन पर किसी भी समय कैमरे के माध्यम से नजर रखना संभव है फिर चाहे वह रात का समय ही क्यों न हो.
  • यदि किसी दुर्घटना में या वारदात में वाहन नष्ट हो जाता है या जल जाता है तो भी इसकी नंबर प्लेट को कुछ नहीं होगा.

हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट घोटाला (High Security Number Plate Scam)

साल 2016 के जून महीने में बीजेपी सरकार ने अरविन्द केजरीवाल सरकार को हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट के कॉन्ट्रैक्ट में भ्रष्टाचार में शामिल होने का आरोप लगाया था. दरअसल इंडिया टुडे द्वारा उपयोग किये गये दस्तावेजों के अनुसार तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने सन 2012 में एचएसआरपी वेंचर्स प्राइवेट लिमिटेड कंपनी के द्वारा रोजमेर्टा को हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट बनाने का प्रोजेक्ट दिया. लेकिन बाद में कंपनी के ऊपर कॉन्ट्रैक्ट के एक्सेक्यूशन में अनियमितताओं का आरोप लगाया गया कि यह कंपनी ग्राहकों को अधिक चार्ज कर रही है और घटिया सामग्री का उपयोग कर नंबर प्लेट का निर्माण कर रही है. उस समय केजरीवाल सरकार सत्ता में आई थी. इसके चलते केजरीवाल सरकार ने एक कमिटी का गठन किया, जिसका नाम था फैक्ट फंडिंग कमिटी. इस कमिटी ने एक रिपोर्ट दी जिसमें यह उल्लेख किया गया था कि इसमें कंपनी में कई सारी गड़बड़ियाँ हैं. और इसकी एक्सपर्ट द्वारा जाँच कराई जानी चाहिए. बीजेपी सरकार का कहना है कि इस रिपोर्ट के मुताबिक दिल्ली सरकार को यह पता चलने के बाद कॉन्ट्रैक्ट बंद कर देना चाहिये था पर ऐसा क्यों नहीं हुआ. और इसके चलते साढ़े चार सौ करोड़ रूपये के घोटाला की बात सामने आई. जिसमें केजरीवाल सरकार के भी शामिल होने का आरोप लगाया गया है.   

दिल्ली सरकार का इस विशेष हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट को शुरू करना का उद्देश्य क्षेत्र में लीगल वाहन के रिकॉर्ड को मेन्टेन एवं कलेक्ट करना है. यह वाहन की पहचान करने में विभाग का काम बहुत ही आसान कर देगा.

अन्य पढ़े :

  1. मुफ्त बिजली योजना राजस्थान 
  2. भामाशाह कार्ड कैसे बनाए? 
  3. डोर स्टेप डिलीवरी योजना क्या है?
  4. मुख्यमंत्री आम आदमी स्वास्थ्य बीमा योजना

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *