PM Mudra Loan Yojana : लॉक डाउन में 2% की ब्याज में छूट, जानिए किसे मिलेगा लाभ

आज से पहले भारत के इतिहास में कभी भी लंबे समय के लिए तालाबंदी नहीं किया गया था। कोरोना वायरस को नियंत्रण में लाने के लिए संपूर्ण भारतवर्ष में आज तक का सबसे बड़ा तालाबंदी किया गया है। एक लंबे अरसे से चल रहे तालाबंदी के वजह से सभी प्रकार के छोटे-छोटे कारोबारियों को उनके कारोबार को करने में काफी ज्यादा समस्या आने लगी है और इस वजह से उनकी आर्थिक स्थिति में भी काफी ज्यादा गिरावट देखने को नजर आ रही है।

Shishu Mudra Loan

लॉक डाउन के समय में शिशु लोन के लाभार्थियों को मिला बड़ा फायदा

ऐसे में भारत सरकार अपने छोटे छोटे कारोबारियों को ध्यान में रखते हुए शिशु मुद्रा लोन में कुछ नए फेरबदल किए हैं। शिशु मुद्रा लोन में किए गए नए बदलाव में अब लोन की प्राप्ति करने के बाद लाभार्थी को 2 फ़ीसदी की लोन में छूट सरकार द्वारा प्रदान की गई हैं  . इस योजना के तहत लगभग तीन करोड़ छोटे कारोबारियों को योजना का लाभ प्रदान करने के लिए आदेश जारी किया गया है। इस योजना के अंतर्गत सभी कारोबारियों द्वारा लिए गए लोन पर स्वयं भारत सरकार पंद्रह सौ करोड़ रुपए का ब्याज का भुगतान करेगी।

आइए जानते हैं , मुद्रा योजना के बारे में और भी विस्तारपूर्वक के जानकारी।

मुद्रा लोन का मुख्य उद्देश्य क्या है ?

इस योजना के शुरू होने से पहले छोटे छोटे कारोबारियों को अपने व्यवसाय को शुरू करने के लिए यदि किसी भी प्रकार के लोन की आवश्यकता होती थी तो उनको उस दौरान बैंक में जाकर लोन के लिए आवेदन करना पड़ता था परंतु बैंक लोन प्रदान करने में बहुत सी कार्यवाही करती थी और काफी ज्यादा ब्याज भी वसूलती थी ऐसे में सरकार ने 2015 में मुद्रा लोन योजना को शुरू किया जिसके अंतर्गत लोन प्रक्रिया को कुछ हद तक आसन बनाया गया हैं .इस योजना के अंतर्गत सरकार ने छोटे कारोबारियों को ₹50000 से लेकर ₹1000000 तक के लोन को लाभार्थी को प्रदान करने का प्रावधान शुरू किया है। मुद्रा लोन को तीन अलग-अलग भागों में विभाजित किया गया है जो इस प्रकार से निम्नलिखित हैं।

  • शिशु लोन :-

    इस योजना के अंतर्गत यदि कोई छोटा कारोबारी अपनी दुकान खोल कर अपना स्वयं का व्यवसाय शुरू करना चाहता है तो इस परिस्थिति में वे इस योजना के माध्यम से लाभार्थी ₹50000 तक का लोन सरकार के माध्यम से प्राप्त कर सकता है। मुद्रा लोन के इस प्रकार के अंतर्गत मिलने वाले लोन के एवज में गारंटी देना जरुरी नहीं हैं .
  • किशोर लोन :-

    इस योजना के अंतर्गत यदि कोई भी मध्यम वर्गीय किसी भी प्रकार के बड़े व्यवसाय को शुरू करना चाहता है तो ऐसी परिस्थिति में वह इस योजना के माध्यम से ₹50000 से लेकर ₹5 लाख़ तक की आर्थिक सहायता लोन राशि को आसानी से प्राप्त कर सकता है।
  • तरुण लोन :-

    इस योजना के अंतर्गत जरूरतमंद छोटे कारोबारियों को उनके व्यवसाय को शुरू करने के लिए ₹5 लाख़ से लेकर ₹10 लाख़ तक की लोन राशि सरकार की तरफ से प्रदान की जाएगी।

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी नेआत्मनिर्भर भारत अभियान की भी घोषणा की और इस अभियान के अंतर्गत तकरीबन 20 लाख करोड़ रुपए का एक आर्थिक पैकेज तैयार किया गया। यह पैकेज भारत में अलग-अलग क्षेत्रों में जरूरतमंदों को लाभ पहुंचाने के लिए प्रयोग में जाएगा।
इन्होंने एमएसएमई सेक्टर , प्रवासी मजदूर , स्ट्रीट वेंडर , छोटे किसान और शहरी गरीबों के लिए कई नए पैकेज को तैयार करके आर्थिक सहायता प्रदान करने का आदेश जारी किया उन्हीं में से शिशु मुद्रा लोन को भी आर्थिक सहायता सरकार द्वारा प्रदान किया जा रहा है।

इसके अंतर्गत सरकार ने निर्णय लिया है कि लाभार्थी को शिशु मुद्रा लोन से व्यवसाय के लिए लोन प्राप्त करने पर आने वाले 1 वर्षों तक 2% का लोन पर ब्याज की छूट प्रदान की जाएगी। क्षेत्र के लिए सरकार ने 15000 करोड़ रुपए का पैकेज तैयार किया है और अब तक इस पैकेज के जरिए 1.62 करोड रुपए जरूरतमंदों को वितरित भी किए जा चुके हैं।

मुद्रा लोन संबंधी किसी भी तरह की परेशानी का अगर आप हल जानना चाहते हैं तो इसका टोल फ्री नंबर दिया गया है टोल फ्री नंबर जानने के लिए यहां क्लिक करें

शिशु लोन मुद्रा योजना का लाभ कौन-कौन से लोग उठा सकते हैं ?

सरकार द्वारा शुरू की गई छोटे कारोबारियों के लिए इस लाभकारी योजना का लाभ केवल छोटे कारोबारियों को भी प्रदान किया जाएगा। कोई भी बड़े स्तर का कारोबारी इस लाभकारी योजना का लाभ नहीं उठा सकता है।

प्रधानमंत्री योजनाओं के अंतर्गत गरीब लोगों के लिए आवास योजना की व्यवस्था की गई थी इस योजना के अंतर्गत बहुत से लोगों ने अपने घर बनाए हैं अगर आप भी लाभ लेना चाहते हैं तो योजना को विस्तार से जानने के लिए यहां क्लिक करें

शिशु लोन मुद्रा योजना के जरिए कैसे लोन को प्राप्त किया जा सकता है ?

यदि कोई छोटा कारोबारी सरकार द्वारा शुरू की गई इस लाभकारी योजना का लाभ उठाना चाहता है तो उसे किसी भी योजना के अधिकृत बैंक में जाना होगा और फिर वहां से योजना से संबंधित एक आवेदन फॉर्म को प्राप्त करना होगा। जरूरतमंद लोगों को लाभ प्रदान करने के लिए ग्रामीण बैंक , सरकारी बैंक , सहकारी बैंक और प्राइवेट बैंक को इसका लाभ प्रदान करने के लिए योजना के अंतर्गत अधिकृत किया गया है।

एमएसएमई क्या है उद्योग लोन रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया जानने के लिए यहाँ क्लिक करे  

दस्तावेजो की जानकारी

संबंधित बैंक में जाने के बाद आपको वहां पर आपके व्यवसाय से संबंधित कुछ आवश्यक दस्तावेज मांगे जाएंगे जैसे कि :- पैन कार्ड, आधार कार्ड इत्यादि। अब अपने आवेदन फॉर्म को बड़े ही ध्यान पूर्वक से भरे और इसके बाद इसमें पूछे जा रहे आवश्यक दस्तावेजों को भी अपने फॉर्म में संलग्न करके इसे उस बैंक में जमा करवा दें।

संबंधित बैंक का ब्रांच मैनेजर आपके सभी दस्तावेजों की जांच पड़ताल करेगा। यदि आपके सारे दस्तावेज सही होते हैं , तो आपको इस योजना का लाभ प्रदान करने के लिए बैंक ब्रांच मैनेजर इसकी स्वीकृति आपको प्रदान कर देगा। अब आप इस लोन की राशि की सहायता से अपने किसी भी प्रकार के छोटे व्यवसाय को बड़ी ही आसानी से शुरू कर सकेंगे। आप किन-किन प्रकार के छोटे व्यवसाय को शुरू करने के लिए इस योजना का लाभ उठा सकते हैं इसके लिए आपको सरकार द्वारा शुरू की गई इस योजना से संबंधित इसकी ऑफिशियल वेबसाइट पर जाना होगा , वहां पर आपको संपूर्ण रूप से जानकारी प्राप्त हो जाएगी।

एमएसएमई बिजनेस लोन 59 मिनिट में दिया जाता हैं सरकार ने इसके लिए कई बेहतर कदम उठाये हैं अगर आप जानना चाहते  हैं तो यहाँ क्लिक करे .

सरकार ने इस योजना में बदलाव करके सभी छोटे कारोबारियों को तालाबंदी में हुए नुकसान को दोबारा से लाभ में परिवर्तित करने का सुनहरा अवसर प्रदान कर रही है। अब इस योजना का छोटा कारोबारी लाभ उठाकर अपने छोटे व्यवसाय को एक अच्छा रूप प्रदान कर सकता है। सभी छोटे कारोबारियों के लिए सरकार द्वारा यह एक अच्छी पहल शुरू की गई है।

अन्य पढ़े

  1. किफायती किराया आवास योजना 
  2. वन नेशन वन राशन कार्ड 
  3. बिहार किसान ऑनलाइन पंजीकरण कैसे करे
  4. आधार संबंधित शिकायतों को कैसे और कहां दर्ज कराएं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *