[Rs 4000] मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना उत्तरप्रदेश 2021, अनाथ, रजिस्ट्रेशन(Bal Sewa Yojana UP)

[Rs 4000] मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना उत्तरप्रदेश 2021 [Bal Sewa Yojana UP] अनाथ, रजिस्ट्रेशन, पात्रता, दस्तावेज, आवेदन, अंतिम तिथि, अधिकारिक वेबसाइट, टोलफ्री हेल्पलाइन नंबर (Orphaned, Eligibility, Documents, Registration, How to Apply, Toll free Number, Official Website)

उम्र चाहे कोई भी हो जीवन में आई परेशानियों का सामना करने के लिए हिम्मत और हौसले की आवश्यकता होती है। कोरोनावायरस में जहां एक तरफ पूरे भारत में कोहराम मचाया हुआ है। बड़े हो या बच्चे हर कोई कोरोना की वजह से बहुत ज्यादा दुखी हो गए हैं और बहुत सारे बच्चे तो ऐसे हैं जो इस दुनिया में ही अकेले हो गए हैं। ऐसे अनाथ बच्चों जिनका इस दुनिया में अब कोई नहीं है कोरोनावायरस की वजह से अपने माता पिता से दूर हो गए हैं उन बच्चों के लिए उत्तर प्रदेश सरकार ने एक नई योजना प्रारंभ की है। इस योजना का नाम है मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना।

mukhyamantri bal sewa yojana up in hindi

मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना उत्तरप्रदेश 2021

नाममुख्यमंत्री बाल सेवा योजना
राज्यउत्तर प्रदेश सरकार
लाभार्थीकोरोना के कारण अनाथ हुए बच्चे
लांच तारीख मई, 2021
आवेदनजून, 2021
लाभवित्तीय सहायता एवं शिक्षा का लाभ
अधिकारिक वेबसाइटNA
हेल्पलाइन नंबरNA

मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना यूपी क्या है

हाल ही में केंद्र सरकार ने भी कोरोनावायरस की वजह से अपने माता-पिता होने वाले बच्चों के लिए एक नई योजना का शुभारंभ किया है। उत्तर प्रदेश राज्य सरकार ने भी एक अहम कदम उठाते हुए मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना का शुभारंभ किया है। इस योजना के अंतर्गत अनाथ बच्चों को आर्थिक सहायता प्रदान करने की प्रक्रिया पर कार्य किया जा रहा है।

मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना यूपी विशेषता

 वित्तीय सहायता :-

मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना के अंतर्गत कोरोनावायरस की वजह से अनाथ हुए बच्चों की देखभाल करने वाले केयरटेकर या गार्जियन को 4000 रुपये की वित्तीय सहायता दी जाएगी।

 मुफ्त शिक्षा एवं ईलाज :-

इस योजना के तहत कोरोना में अनाथ हुए बच्चों के लिए पूरी तरह से मुफ्त शिक्षा और मेडिकल ईलाज की भी सुविधाएं दी जाएंगी। जो बच्चे मुफ्त शिक्षा प्राप्त करना चाहते हैं उन्हें राजकीय बाल विद्यालय एवं अन्य सरकारी बाल विद्यालयों में मुफ्त शिक्षा के लिए दाखिल कराया जाएगा।

केयर सेंटर का निर्माण :-

जिन बच्चों की देखरेख करने वाला कोई भी नहीं है और वह 10 साल से कम की आयु के हैं तो उनके लिए केयर सेंटर बनाए जाएंगे। इस योजना में 10 साल से कम आयु वाले बच्चों को उत्तर प्रदेश के 5 राज्यों में स्थित बाल ग्रह केंद्रों में परवरिश के लिए भेजा जाएगा।

लोन की सुविधा :- 

यदि वे उच्च शिक्षा प्राप्त करना चाहते हैं तो उन्हें लोन की सुविधा भी दी जाएगी जिसके ब्याज का भुगतान सरकार द्वारा किया जाएगा। 

बालिका के विवाह के लिए सहायता :-

यदि कोई बालिका शादी लायक है तो उसके विवाह के खर्च को वहन करने के लिए 1 लाख 1 हजार रुपये की वित्तीय सहायता देने की घोषणा भी सरकार की तरफ से की गई है. 

उच्च शिक्षा प्राप्त करने वाले विद्यार्थी :-

जो विद्यार्थी उच्चतम शिक्षा प्राप्त कर रहे हैं उन्हें लैपटॉप और टेबलेट की सुविधा भी सरकार की तरफ से उपलब्ध कराई जाएगी.

मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना यूपी पात्रता मापदंड

उत्तरप्रदेश मूल निवासी :-

इस योजना का लाभ लेने के लिए सभी उत्तरप्रदेश के मूल निवासी बच्चे पात्र होंगे. उत्तरप्रदेश से बाहर 5 राज्यों में पढ़ाई करने वाले छात्रों को भी इसका लाभ मिलेगा.

अनाथ बच्चे :-

इस योजना में ऐसे बच्चे जिनके माता – पिता या अभीभावक कोरोना संक्रमित होने की वजह से अपने बच्चों को अनाथ छोड़ कर चले गये, ऐसे बच्चों को लाभान्वित किया जायेगा.

आयु सीमा :-

इस योजना का लाभ सभी आयु वर्ग के बच्चे उठा सकते हैं. इसके लिए कोई भी आयु सीमा निर्धारित नहीं की गई है.

जाति सीमा :

इस योजना का लाभ सभी जाति के लोगों को दिया जाना है. इसके लिए कोई भी विशेष जाति समूह के लोगों को लाभ दिए जाने का प्रावधान नहीं है.

मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना यूपी दस्तावेज

  1. आवासीय प्रमाण पत्र
  2. माता – पिता या अभिभावक का मृत्यु प्रमाण पत्र
  3. पहचान प्रमाण पत्र

मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना यूपी रजिस्ट्रेशन

हाल ही में उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा इस योजना की घोषणा की गई है कुछ समय पश्चात इस योजना से संबंधित रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया आदि की जानकारी सरकार की तरफ से प्राप्त होते ही हम आपको सूचित करेंगे।

FAQ

Q : उत्तर प्रदेश के किन पांच राज्यों में बाल विकास केंद्र उपलब्ध है?

Ans : मथुरा, प्रयागराज, लखनऊ, आगरा और रामपुर.

Q : मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना के अंतर्गत पंजीकरण की क्या प्रक्रिया है?

Ans : फिलहाल कोई प्रक्रिया लागू नहीं की गई है.

Q : किन बच्चों को बाल विकास केंद्र में भेजा जाएगा?

Ans : जो बच्चे 10 साल से कम उम्र के हैं और उनके माता-पिता कोरोना की वजह से अब उनके साथ नहीं रहे.

Q : अनाथ बच्चों के केयरटेकर या गार्डियन को कितनी वित्तीय सहायता दी जाएगी?

Ans : 4000 रुपये


अन्य पढ़ें –

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *