मुख्यमंत्री किरायेदार बिजली मीटर योजना दिल्ली 2021 | Mukhya mantri Kirayedaar Bijli Meter Yojana Delhi in Hindi

मुख्यमंत्री किरायेदार बिजली मीटर योजना दिल्ली 2020 (Mukhyamantri Kirayedaar Bijli Meter Yojana Delhi in Hindi) (योग्यता, पात्रता, आवेदन कैसे करें) (Prepaid Meter for Tenants)

अक्सर देखा जाता हैं कि जब सरकार बिजली सब्सिडी संबंधित कोई योजना शुरू करती हैं तो उससे लाभ केवल वे लोग उठाते हैं जिनका खुद का घर होता हैं. लेकिन कुछ ऐसे लोग होते हैं जो किसी के घर में बतौर किरायेदार रहते हैं. और उनके मकान मालिक उनसे बिजली के लिए प्रति यूनिट के अनुसार मनचाहा किराया वसूल लेते हैं. ऐसे में ये किरायेदार सरकार से अक्सर मांग करते रहते हैं कि उन्हें भी सब्सिडी की सुविधा प्रदान की जायें. उनकी इस मांग को पूरा करने के लिए दिल्ली राज्य सरकार ने ‘मुख्यमंत्री किरायेदार बिजली मीटर योजना’ को प्रारंभ किया हैं. इसके तहत किरायेदारों के लिए प्रीपेड मीटर की सुविधा शुरू की गई है. यह योजना क्या हैं और कैसे इसका लाभ मिल सकता हैं यह जानकारी को आप इस लेख से प्राप्त कर सकते हैं.   

Mukhyamantri Kirayedaar Bijli Meter Yojana Delhi in Hindi

       

लांच की जानकारी (Launch Details)

योजना की जानकारी बिंदुयोजना की जानकारी
नाममुख्यमंत्री किरायेदार बिजली मीटर योजना दिल्ली
लांचसितंबर, 2019
घोषणादिल्ली मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल द्वारा
लाभार्थीदिल्ली में किराये से रहने वाले लोग
संबंधित विभागविद्युत विभाग
हेल्पलाइन नंबरअभी नहीं
पोर्टलअभी नहीं

मुख्यमंत्री किरायदार बिजली मीटर योजना की खासियत एवं लाभ (Mukhyamantri Kirayedaar Bijli Meter Yojana Features and Benefits)

  • किरायेदारों को मदद :- इस बिजली मीटर योजना को शुरू कर राज्य सरकार किराये पर रहने वाले लाखों लोगों को सस्ती बिजली की सुविधा देकर मदद करना चाहती हैं.
  • प्राप्त होने वाली सुविधा :- इस योजना में लाभार्थियों को प्रीपेड मीटर की सुविधा प्रदान की जा रही हैं. यानि अब वे अपना खुद का एक अलग मीटर लगवा सकते हैं.
  • घरेलू उपयोग के लिए :- इस योजना में लाभार्थियों को जो मीटर की सुविधा प्रदान की जाएगी, उसका उपयोग वे केवल घरेलू उपयोग के लिए ही कर सकते हैं. अन्य चीजों में इसका उपयोग करना वर्जित हैं.
  • प्रीपेड भुगतान :- इस योजना के लाभार्थियों को मीटर लगवाने के लिए कुछ सुरक्षा शुल्क लगभग 3000 रूपये पहले से बिजली कंपनी में जमा करने होंगे. यानि उन्हें पहले रिचार्ज करना होगा उसके बाद ही उन्हें बिजली की सुविधा प्राप्त हो सकेगी.
  • एनओसी की जरुरत नहीं :- इस योजना में लाभार्थियों को मीटर लगवाने के लिए अपने मकान मालिक या किसी से भी एनओसी लेने की आवश्यकता नहीं है.
  • बिजली की खपत :- इस योजना में बिजली खपत के अनुसार पैसे कट भी सकते हैं. यदि आपने 200 यूनिट तक की या उससे कम की बिजली की खपत की हैं तो आपके कोई पैसे नहीं काटे जायेंगे, लेकिन यदि आपने 400 यूनिट तक की बिजली की खपत की हैं तो ऐसे में आपके आधे पैसे काट लिए जायेंगे.       

मुख्यमंत्री किरायदार बिजली मीटर योजना में पात्र उम्मीदवार (Prepaid Meter for Tenants Candidates in Delhi)

  • दिल्ली निवासी :- इस योजना में वे लोग शामिल हो सकते हैं जोकि दिल्ली सीमा के अंदर आने वाले किसी घर में किराये से रह रहे हैं.
  • केवल किरायेदार :- इस योजना में केवल किरायेदारों को शामिल करने का फैसला राज्य सरकार ने लिया हैं. यानि एक आवेदक यदि कानूनी रूप से किसी मकान मालिक के घर में किराये से रह रहा हैं तो उसे ही इस योजना का लाभ लेने की अनुमति हैं.

मुख्यमंत्री किरायदार बिजली मीटर योजना में मीटर लगवाने के लिए आवश्यक दस्तावेज (Mukhyamantri Kirayedaar Bijli Meter Yojana Required Documents for Installation of Meters)

  • आवासीय प्रमाण पत्र :- लाभार्थी किरायेदारों को इस योजना से जुड़ने के लिए आवश्यक दस्तावेजों के रूप में अपना दिल्ली सीमा के अंदर आने वाले घर में रहने का प्रमाण पत्र देना होगा. यह उनका आवासीय प्रमाण पत्र होगा.
  • किरायेदार होने का प्रमाण :- लाभार्थियों को अपने किरायेदार होने का प्रमाण देने के लिए एक किरायेदार – मकान मालिक एग्रीमेंट की कॉपी जमा करनी होगी. जिसमें सभी तरह की जानकारी दी हुई होगी.
  • किरायेदार का पहचान दस्तावेज :- इस योजना के लिए अप्लाई करते समय आपको आधार कार्ड की कॉपी की आवश्यकता हो सकती हैं, क्योंकि इस दस्तावेज के साथ स्कीम एनरोलमेंट फॉर्म में दी गई जानकारी की जाँच की जा सकती हैं.

मुख्यमंत्री किरायदार बिजली मीटर योजना में मीटर कैसे लगवाएं (How to Get Meter in Mukhyamantri Kirayedaar Bijli Meter Yojana)

इस योजना की अब तक केवल घोषणा की गई हैं, इसमें अप्लाई करने की कोई अधिकारिक फॉर्म या प्रक्रिया को राज्य सरकार द्वारा साझा नहीं किया गया हैं. लेकिन इस योजना की घोषणा करते हुए अरविन्द केजरीवाल ने यह कहा था कि लाभार्थी 3 भिन्न – भिन्न नंबर पर फोन करके अपने मीटर के लिए एप्लीकेशन दे सकते हैं. और ये नंबर बिजली कंपनी के होंगे. एप्लीकेशन देने के बाद कुछ औपचारिकताओं को पूरा करना होगा, और फिर बिजली कंपनी द्वारा एक व्यक्ति को भेजा जायेगा जो आपके घर में मीटर इनस्टॉल कर देगा. इसके बारे में जानकारी अभी सही तरीके से नहीं दी गई हैं. अतः आप इस जानकारी को प्राप्त करने के लिए हमारे इस लेख के साथ अपडेट होने तक बने रहिए.     

अतः इस योजना के माध्यम से राज्य सरकार किरायेदारों पर पड़ने वाले अधिक बिजली बिल के भार को कम कर मदद कर रही हैं. ताकि उन्हें बिजली की खपत करने के लिए अधिक पैसे न देने पड़ें.

Other links –

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *