(पंजीकरण) मुख्यमंत्री मुफ्त सोलर पंप योजना मध्यप्रदेश ऑनलाइन आवेदन 2021 | Mukhyamantri Solar Pump Yojana MP in hindi

मुख्यमंत्री मुफ्त सोलर पंप योजना मध्यप्रदेश 2021(पंजीकरण, ऑनलाइन आवेदन, पात्रता, किसान लाभार्थी सूची, पोर्टल, हेल्पलाइन नंबर) (Mukhyamantri Solar Pump Yojana MP in hindi) (Online registration, krishi pump, Beneficiary list, Eligibility)

किसानों को खेती के दौरान कई तरह की प्रक्रिया से गुजरना पड़ता है. ऐसे में सिंचाई भी बहुत जरुरी प्रक्रिया है. बड़े बड़े खेतों में सिंचाई करना आसान नहीं होता है, इसके लिए अधिक पानी के साथ साथ मोटर पंप की भी आवश्कता होती है. ये मोटर पंप की सहायता से ही किसान आसानी से सिंचाई कर पाते है, लेकिन ये पंप हर किसान नहीं खरीद पाता है, ये इतने महंगे होते की गरीब किसान इसे खरीदने की सोच भी नहीं पाता है. इसलिए मध्यप्रदेश किसानों की मुश्किलें आसान करने के लिए मुख्यमंत्री सोलर पंप योजना लेकर आई है, जिसमें वो जरूरतमंद किसानों को सब्सिडी रेट में सोलर पंप देती है. अगर आप भी इस योजना का लाभ चाहते है, आवेदन करना चाहते है तो हमारे इस आर्टिकल को पूरा अंत तक पढ़े.

mukhyamantri solar pump yojana mp

मुख्यमंत्री सोलर पंप वितरण योजना क्या है ?

मध्यप्रदेश में किसानों की मदद के लिए यह योजना शुरू की गई है, जिसमें पात्र किसानों को सरकार द्वारा सोलर पंप पर अनुदान दिया जायेगा. जिससे किसान अपने खेत में आसानी से सिंचाई कर सकेंगें. योजना को मध्यप्रदेश एवं भारत सरकार मिलकर चला रही है.

मुख्यमंत्री किसान कल्याण योजना – किसानों के खाते में सीधे सरकार डाल रही है 10000 रूपए, इस तरह करें आवेदन

मुख्यमंत्री सोलर पंप वितरण योजना का उद्देश्य –

योजना का उद्देश्य किसानों को सिंचाई के लिए मुफ्त में सोलर पंप देना है, जिससे गाँव या छोटे शहर के गरीब किसान भी इसका लाभ उठा सकेंगें. इससे राज्य में खेतों में आसानी से पानी पहुंचेगा जिससे फसल अच्छी होगी, जिससे राज्य के साथ साथ किसानों की भी उन्नति होगी.

नाम

मुख्यमंत्री सोलर पंप वितरण योजना

कहाँ लांच हुई

मध्यप्रदेश

किसने लांच की

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान

लाभार्थी

किसान

लाभ

सब्सिडी में मिलेगा सोलर पंप

विभाग

कृषि एवं कल्याण विभाग

आधिकारिक पोर्टल

cmsolarpump.mp.gov.in

हेल्पलाइन नंबर

0755-2575670 , 2553595

मुख्यमंत्री सोलर पंप वितरण योजना के लाभ –

  • मध्यप्रदेश सरकार ने बताया है की मुख्यमंत्री सोलर पंप वितरण योजना के अंतर्गत किसानों को सोलर पंप खरीद पर 90 प्रतिशत तक अनुदान मिलेगा, जिससे आसानी से कम से कम खर्च पर किसान पंप को खरीद सकेंगें.
  • योजना को मध्यप्रदेश सरकार की मुख्यमंत्री सोलर पंप वितरण योजना और केंद्र सरकार की प्रधानमंत्री कुसुम योजना दोनों को जोड़कर शुरू किया गया है.
  • योजना के तहत किसानो को सोलर पंप ही दिए जायेंगे, पैट्रॉल डीजल से चलने वाले पंप महंगे होने के साथ साथ, वायु प्रदुषण को भी बहुत फैलाते है. इसलिए सरकार ने फैसला लिया है कि योजना में सोलर पंप ही दिए जाएँ.
  • सोलर पंप देने से बिजली की भी बचत होगी. नार्मल पंप लगाने से बिजली बिल का खर्चा भी बहुत अधिक आता है, इसलिए सरकार बिजली खपत को कम करने के लिए सोलर पंप के प्रयोग को राज्य में बढ़ा रही है.
  • देश में अभी भी कुछ ऐसे गाँव, छोटे शहर है जहाँ बिजली सेवा शुरू नहीं हुई है, उर्जा वितरण कंपनी की सेवा अभी तक यहाँ नहीं पहुंची है, ऐसे में किसानों को खेत में सिंचाई करने के लिए बिजली की व्यवस्था खुद से अपने खर्चे पर करनी पड़ती थी. मध्यप्रदेश सरकार ऐसे स्थान पर किसानों को पहले सोलर पंप का फायदा देगी, ताकि उनकी परेशानी ख़त्म हो सके.
  • कई ऐसे गाँव है जहाँ बिजली कनेक्शन तो है लेकिन विद्युत् लाइन बहुत दुरी पर है, जैसे कुछ स्थानों में 300 मीटर से अधिक दूरी पर है, तो वहां पंप चलाने में मुश्किलें पैदा होती है, ऐसे स्थानों को भी पहले प्राथमिकता देते हुए योजना का लाभ दिया जायेगा.

मुख्यमंत्री जन कल्याण संबल योजना – योजना के तहत नया कार्ड बनवाकर पायें अनेको लाभ, बच्चों की पढाई से लेकर, शादी तक, पेंशन, सभी को मिल रहे है लाभ

मुख्यमंत्री सोलर पंप वितरण योजना की पात्रता शर्तें –

  • योजना का लाभ लेने के लिए मध्यप्रदेश का मूल निवासी होना अनिवार्य है, राज्य से बाहर के किसान इस योजना का लाभ नहीं उठा सकते है.
  • योजना का लाभ राज्य के हर जिले गाँव के किसान उठा सकते है.
  • किसान को जो सोलर पंप मिलेगा, उसका प्रयोग सिर्फ किसान अपने खेत में सिंचाई के लिए कर सकेगा, इसके अलावा वो उसे किसी और काम में या उसे बेच नहीं सकता.
  • योजना के तहत सोलर पंप सिर्फ उन्ही किसानों को मिलेगा, जिनके पास पहले से किसी भी तरह का कोई मोटर पंप नहीं है.
  • एक बार सोलर पंप स्थापित हो गया तो वो फिर स्थानान्तरीत नहीं होगा.
  • स्थापना के दौरान अगर सोलर पंप में कुछ टूट गया या चोरी हुआ तो इसकी ज़िम्मेदारी भी आवेदक की होगी.

मुख्यमंत्री सोलर पंप योजना जरुरी दस्तावेज –

  • किसान क्रेडिट कार्ड
  • आधार कार्ड
  • मोबाइल नंबर
  • बैंक खाता जानकारी
  • मध्यप्रदेश मूल निवासी पत्र
  • भूमि के खसरा खतौनी कागजात
  • पासपोर्ट साइज़ फोटो

मध्यप्रदेश मुख्यमंत्री भावान्तर भुगतान योजना – फसल की सही कीमत चाहते है तो योजना के तहत जल्द करें पंजीयन

मुख्यमंत्री सोलर पंप योजना के लिए आवेदन कैसे करें –

  • जो भी किसान योजना के तहत सोलर पंप चाहते है वो सर्वप्रथम मुख्यमंत्री सोलर पंप योजना की आधिकारिक साईट में जाएँ.
  • यहाँ होम पेज पर नवीन आवेदन विकल्प दिखाई देगा, जिस पर क्लिक करें.
  • यहाँ आपको अपने चालू मोबाइल के नंबर डालना होगा, जिस पर ओटीपी आएगा, जिसके द्वारा आप लॉग इन हो जायेंगें.
  • यहाँ आवेदक को अपनी सारी पर्सनल जानकारी भरनी होगी, जिसके बाद आप उसे सबमिट कर दें.

आवेदन की अगली प्रक्रिया –

  • अब आवेदक को अपने आधार की eKYC की जानकारी यहाँ देनी होगी, इसके साथ ही बैंक की जानकारी, जमीन की जानकारी आदि देनी होगी.
  • आवेदक को मध्य प्रदेश ऊर्जा विकास निगम लिमिटेड, भोपाल के नाम पर 5000 रूपए की पंजीयन राशी भी जमा करनी होगी. यह राशी किसी भी हालत में वापस नहीं हो सकेगी.
  • राशी जमा होने और आवेदन होने के बाद 120 दिन के भीतर आवेदक के बताये गए स्थान पर सोलर पंप की स्थापना सरकारी अधिकारीयों द्वारा कर दी जाएगी.

मुख्यमंत्री सोलर पंप योजना का लाभ हर किसान को लेना चाहिए, ताकि वे इस कल्याणकारी योजना का लाभ उठा सकें, योजना से किसानों को सिंचाई में बहुत लाभ होगा, उनको बहुत आसानी होगी.

FAQ –

Q: मुख्यमंत्री सोलर पंप योजना में आवेदन कैसे कर सकते है?

Ans: ऑनलाइन

Q: मुख्यमंत्री सोलर पंप योजना की आधिकारिक साईट कौनसी है?

Ans: cmsolarpump.mp.gov.in/

Q: मुख्यमंत्री सोलर पंप योजना के अंतर्गत स्थापना के बाद अगर कोई परेशानी होगी तो कहाँ शिकायत कर सकते है?

Ans: हर जिले में योजना के तहत एक समिति गठित की है, जहाँ आप शिकायत कर सकते है, इसके आलवा राज्य अधिकारी 0755-2575670 नंबर पर भी शिकायत कर सकते है.

Q: मुख्यमंत्री सोलर पंप योजना का लाभ कौनसे किसान ले सकते है?

Ans: मध्यप्रदेश के कोई भी किसान इस योजना का लाभ उठा सकते है.

अन्य पढ़ें –

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *