प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना 2021 (PMGKY), ऑनलाइन आवेदन, फॉर्म, लाभ

क्या है प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना (लाभ, लिस्ट, नियम, ऑनलाइन आवेदन फॉर्म, पैकेज लिस्ट)  (PM Garib Kalyan Yojana (PMGKY), Portal Registration Online ) 2021

केंद्रीय सरकार द्वारा पिछले साल लोकडाउन की घोषणा के बाद प्रधानमंत्री द्वारा गरीब कल्याण योजना को भी मंजूरी दे दी गई थी। इस योजना के अंतर्गत भारत की वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के द्वारा 1.7 लाख करोड़ का पैकेज जारी किया गया था जिसके अंतर्गत लगभग 80 करोड़ भारतीयों को लाभान्वित किया गया। इस योजना के अंतर्गत शहर और गांव में रहने वाले गरीब, प्रवासी श्रमिकों और साथ ही महिलाओं को जो आर्थिक और सामाजिक स्तर पर पिछड़े हुए हैं उन्हें लाभान्वित किया गया।

फिर पीएम मोदी जी ने गरीब कल्याण योजना को फिर अगले 5 महीने मतलब नवम्बर तक आगे बढ़ा दिया था. और नवम्बर तक लगातार गरीबों को मुफ्त अनाज मिलता रहा. कोरोना के बढ़ते केस और रोजगार की कमी के चलते सरकार ने यह फैसला दोबारा लिया है. आइये जानते हैं इस बार उन्होंने क्या फैसला किया है 

Pradhan Mantri Garib Kalyan Yojana

Table of Contents

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना 2021

योजना का नामप्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना
लांच किया गयाप्रधानमंत्री मोदी जी द्वारा
लांच की तारीखअप्रैल, 2020
लाभार्थीदेश के गरीब लोग
लाभमुफ्त राशन
अधिकारिक वेबसाइटNA
टोल फ्री नंबर1800-180-2087 एवं 1800-212-5512

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना 2021 ताज़ा अपडेट

इस योजना के तहत सरकार ने एक और बड़ा फैसला किया है. सरकार ने हालही में 7 जून को यह ऐलान किया है कि इस योजना के तहत मिलने वाला मुफ्त अनाज लाभार्थियों को दीवाली एवं दीवाली की छठ तक मिलता रहेगा. सरकार ने फैसला किया है कि देश के करीब 80 करोड़ लोगों को इसका फायदा मिलेगा.

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना 2021 सरकार का बड़ा फैसला

इन दिनों देश में कोरोना की दूसरी लहर अपना कहर दिखा रही है, जिससे देश में हर जगह हाहाकार मचा हुआ है. हाल की बात करें तो आपको बता दें कि देश के कई राज्यों में कोरोना के खतरे के चलते लॉकडाउन लगाया गया है. इससे सबसे ज्यादा परेशानी में हमारे देश की आम जनता खास कर जो गरीब लोग हैं वे आर्थिक रूप से बहुत मुश्किलों से जूझ रहे हैं. उनके पास खाने के लिए न ही अनाज बचा है और न ही इतने पैसे है कि वे कम से कम अपना एवं अपने परिवार का पेट पाल सकें. ऐसे में मोदी जी ने पिछले साल शुरू की ‘प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना’ को फिर से सक्रिय करने का फैसला किया है. जी हाँ मोदी जी ने इस साल कोरोना की दूसरी लहर को देखते हुए आने वाले मई एवं जून के महीने में देश के करीब 80 करोड़ लोगों को मुफ्त में 5 किलोग्राम अनाज प्रदान करने का फैसला किया है. देश का कोई भी व्यक्ति भूखा ना रहे, इसलिए सरकार ने इसके लिए 26 हजार करोड़ रूपये के बजट का’ आवंटन भी किया है.   

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना 4.0 :-

पिछले साल हमारे देश के प्रधानमंत्री श्री माननीय नरेंद्र मोदी जी के द्वारा लॉकडाउन के दूसरे चरण के ठीक पहले 30 जून को देश को संबोधित करते हुए, एक घोषणा की गई. इस घोषणा में प्रधानमंत्री जी के द्वारा, इस योजना को आगे नवंबर तक बढ़ाने का ऐलान कर दिया गया था। इसके तहत प्रधानमंत्री जी ने कहा है कि, प्रधानमंत्री कल्याण योजना के अंतर्गत देश के 80 करोड़ से अधिक गरीब परिवारों को नवंबर तक लाभ मिलेगा. इन 5 महीनों तक 5 किलो गेहूं, 5 किलो चांवल बिल्कुल मुफ्त में सरकार द्वारा दिया गया. इस योजना का खर्च 90,000 करोड़ रुपए से ज्यादा का हुआ. प्रधानमंत्री मोदी जी ने कहा है कि, पहले 3 महीनों का बजट मिलाकर यह लागत लगभग 1.5 लाख करोड़ रुपए का हो गया है।

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना 3.0 :-

हमारे देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने इस योजना के अंतर्गत सहायता को आगे बढ़ाते हुए प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना तीसरा फेस शुरू किया, कोरोनावायरस के कारण आ रही आर्थिक परेशानियों से निपटने के लिए इस योजना के अंतर्गत केंद्र सरकार के द्वारा तीसरा प्रोत्साहन पैकेज लाया गया। इस रिपोर्ट के आधार पर इस योजना के अंतर्गत देश के गरीब लोगों को 7 मार्च तक फ्री में अनाज उपलब्ध करवाया. केंद्र सरकार सामाजिक सुरक्षा के लिए इस योजना को आगे बढ़ाने का प्लान बना रही थी। इस योजना के अंतर्गत मनी ट्रांसफर स्कीम को भी शामिल किया गया. इस योजना के मुताबिक तीसरा प्रोत्साहन पैकेज में सरकार ने 20 करोड़ जनधन खाते और तीन करोड़ गरीब वृद्धजन, विकलांग, विधवा आदि को मनी ट्रांसफर किया।

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना 2.0 में आवंटित और वितरित अनाज

इस योजना के बारे में आप लोग जानते हैं कि, देश के सभी गरीब राशन कार्ड धारक परिवारों को सरकार द्वारा नवंबर तक 5 किलो गेहूं 5 किलो चांवल मुफ्त में सरकार के द्वारा दी जाएगी। तो आपको पता होना चाहिए कि, इन 5 महीनों के लिए सरकार द्वारा 201लाख टन का अनाज आवंटित किया गया है। जिसे राज्यों द्वारा 89.76 लाख टन अनाज, इस योजना के अंतर्गत राज्य द्वारा गरीब लोगों को 60.52 लाख टन अनाज वितरण किया गया। इस योजना के अंतर्गत जुलाई के महीने में लाभार्थियों को 35.84 लाख टन अनाज दिया गया है, जिसमें कुल लाभार्थियों की संख्या 71.68 करोड़ है। इस तरह अगस्त के महीने में लाभार्थियों को 24.68 लाख टन अनाज वितरण किया गया है, इस तरह कुल लाभार्थियों की संख्या 49.36 करोड़ है।

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना उद्देश्य

इस योजना के जरिए सरकार का यही उद्देश्य है कि जनता अपने घर में रहे. कोरोनावायरस से बचने के लिए सामाजिक दूरी को बनाए रखने में भारतीय लोग तभी सक्षम हो पाएंगे जब उन्हें घर बैठे सभी सुविधाएं प्रदान की जाएंगी। इसलिए प्रधानमंत्री कल्याण योजना के अंतर्गत दो तरह से गरीबों के बीच लाभ का हस्तांतरण किया जाएगा जिनमें से पहला डीबीटी अकाउंट के जरिए उन्हें सीधा नकदी प्रदान करना या फिर उनकी जरूरत के अनुसार उन्हें खाद्य पदार्थ प्रदान करना।

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना लाभ

  • इस योजना के अंतर्गत वित्त मंत्री ने किसानों, मनरेगा, गरीब, विधवाओं, पेंशन प्राप्त करने वाले लोगों, को शामिल किया है।
  • इसके अतिरिक्त सीधे नकदी की सुविधाएं देने के लिए सरकार ने जनधन योजना वाले खाते, उज्ज्वला योजना वाले खाते धारकों, महिलाओं के लिए एसएचजी, ईपीएफओ और निर्माण श्रमिकों के सहित आठ अलग-अलग उपायों के जरिए गरीबों तक सुविधाएं पहुंचाने का आयोजन किया है।
  • इस योजना के जरिए भारत के प्रधानमंत्री सभी लोगों को सुरक्षित रखना चाहते हैं ताकि वे अपने घर पर रहे और किसी भी स्थिति में कोई घबराहट महसूस ना करें।
  • साथ ही इस योजना के अंदर गरीबों को बीमारी से इलाज के लिए भी कवरेज प्रदान किया जा रहा है.

पीएम किसान योजना की चौथी क़िस्त प्राप्त करने के लिए यहाँ क्लिक करें

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना लाभ का माध्यम

लॉक डाउन के कारण गरीब राशन को लेकर चिंतित है, इसलिए सरकार ने इस योजना की घोषणा के द्वारा देश के गरीबों को अन्य और धन दोनों के माध्यम से सहायता प्रदान की है। इस योजना के अंतर्गत केंद्र सरकार गरीबों को आर्थिक मदद सीधे लाभार्थियों के बैंक अकाउंट में डीबीटी के माध्यम से धनराशि पहुंचाएगी इसी के तहत हमारे देश के वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण जी ने 21 मार्च 2020 को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के साथ-साथ कुछ और महत्वपूर्ण योजनाओं की घोषणा की है।

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना पात्रता मापदंड

  • राशन कार्ड धारक :- प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना का लाभ उठाने वाले लाभार्थी केवल वे लोग हो होंगे जिनके पास उनका राशन कार्ड है साथ ही जो गरीबी रेखा से नीचे आते हैं. यानि कि इस योजना का लाभ देश के सभी गरीब असहाय लोगों को जोकि राशन कार्ड धारक हैं उन्हें मिलेगा.  
  • प्रवासी मजदूर :- प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत देश के जिन प्रवासी मजदूरों के पास अपना राशन कार्ड नहीं है। उन लोगों को अब 5 किलो चावल 5 किलो गेहूं और 1 किलो चना हर परिवार के दर से 2 महीने तक सरकार के द्वारा मुहैया कराया जाएगा, देश के करीब 8 करोड़ प्रवासियों को इससे फायदा होगा. इस पर लगभग 3500 करोड रुपए खर्च होंगे, जिसका पूरा खर्च केंद्र सरकार द्वारा उठाया जायेगा।

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना दस्तावेज

  • आधार कार्ड धारक :- इस योजना के तरह सरकार द्वारा जो अन्य लाभ प्रदान किये जा रहे हैं उसका लाभ उठाने के लिए लाभार्थी वह होना चाहिए, जिसके पास आधार कार्ड हो. साथ ही वह केवाईसी अपडेट किया हुआ होना चाहिए.
  • राशन कार्ड :- इस योजना के लाभ उठाने से पहले लाभार्थी को अपना राशन कार्ड दिखाना होगा.

ईसीआर एवं आधार केवाईसी आवश्यक

भारत में कई ऐसे संस्थान हैं, जिन्होंने इनके लिए डिक्लेरेशन भरा है, लेकिन काफी सारे ऐसे भी संस्थान हैं, जिन्होंने अभी तक ईसीआर जमा नहीं करवाया है। इसी वजह से उन्हें गरीब कल्याण योजना का लाभ नहीं मिल सका है, वे सभी संस्था जिन्होंने ईसीआर फाइल नहीं किया है, वह जल्द से जल्द ईसीआर करके इस योजना का लाभ उठा सकेंगे।

वे सभी सदस्य जिन लोगों ने योजना लागू होने से पहले ही ईसीआर भरा है, उन्हें भी इस योजना का लाभ प्राप्त होगा. इसके साथ ही वे सारे ऐसे सदस्य भी लाभ उठा सकते हैं, जिन्हें अपना आधार केवाईसी अपडेट करवाया है। ऐसे व्यक्ति जिनका आधार केवाईसी नहीं है, विभाग द्वारा ऐसे सदस्यों से संपर्क करके अपना आधार अपडेट करने के बारे में जानकारी दी जा रही है. वह सभी लोग जो आधार केवाईसी अपडेट ना होने की वजह लाभ नहीं था पा रहे हैं, वे अपना आधार और केवाईसी अपडेट करवा कर योजना का लाभ उठा सकते हैं।

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना घोषणाएं

इस योजना की कुछ मुख्य विशेषताएं हैं जिनके तहत गरीबों को उचित सुविधाएं प्रदान की जाएंगी।

चिकित्सक एवं अन्य मेडिकल स्टाफ बीमा योजना :-

इस योजना के माध्यम से भारत सरकार द्वारा चिकित्सा क्षेत्र में कार्यरत सभी कार्यकर्ताओं जैसे डॉक्टर नर्स मेडिकल स्टाफ आशा वर्कर व अन्य सभी स्टाफ को सरकार के द्वारा 50 लाख तक का बीमा उपलब्ध कराया गया है। साथ ही साथ उन्हें कोरोनावायरस से लड़ने के लिए और अच्छी देखभाल के लिए प्रेरित किया जा रहा है।

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण पेंशन योजना :-

वित्त मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमण ने संबोधित करते हुए बताया है कि, देश में चल रहे हालातों के तहत सरकार द्वारा देश के बुजुर्गों दिव्यांगों के लिए आने वाले 3 महीनों तक ₹1000 की अतिरिक्त पेंशन प्रदान की जाएगी यह लाभ डीबीटी जो कि, डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर के माध्यम से दी जा रही है। इस योजना के अंतर्गत लाभ लगभग 3 करोड लाभार्थी उठा सकेंगे। इस योजना के तहत 2.82 करोड़ लोगों को 1405 करोड़ रुपए की पेंशन दी गई है, जिसमें विधवा पेंशन और वरिष्ठ नागरिक को दी जाने वाली पेंशन राशि भी सम्मिलित है।

प्रधानमंत्री किसान योजना :-

गरीब कल्याण योजना को सफल बनाने के लिए विभिन्न राज्य सरकारों द्वारा योजना के लाभ केंद्र सरकार की सहायता से लाभार्थियों तक पहुंचाए जा रहे हैं, इस योजना के अंतर्गत सरकार 5 अप्रैल 2020 तक केंद्र सरकार के द्वारा 80 लाख किसानों के खाते में प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के तहत ₹2000 की धनराशि डीबीटी के अंतर्गत ट्रांसफर के माध्यम से वितरण की गई है, यह धनराशि कुल 1600 लाख करोड रुपए हैं।

स्वयं सेवा समूह के लिए दीनदयाल योजना :-

भारत सरकार के द्वारा दीनदयाल योजना के अंतर्गत संशोधन करते हुए, अब महिला स्वयं सहायता समूह के अंतर्गत महिलाओं को 20 लाख तब का लोन उपलब्ध कराया जा रहा है। यह धनराशि पहले 10 लाख कि थी। आने वाले 3 महीने तक सभी महिलाओं जिनके खाते जन धन के अंतर्गत खोले गए हैं, उन्हें 3 माह तक 500 की धनराशि डीबीटी के माध्यम से उपलब्ध कराई जा रही है। इससे लगभग 20 करोड़ महिलाओं को लाभ मिलेगा।

प्रधानमंत्री जन कल्याण योजना :-

केंद्र सरकार के द्वारा इस योजना के तहत देश के 39 करोड़ आर्थिक रुप से गरीब नागरिकों को उनके बैंक अकाउंट में 34,800 की धनराशि ट्रांसफर की गई है. प्रधानमंत्री जन कल्याण योजना के अंतर्गत ₹46,000 आवंटित किए गए हैं, गरीब परिवारों को अनाज उपलब्ध कराने के लिए 3 महीनों में 104.4 लाख टन चावल की आवश्यकता होगी। अब तक केंद्र सरकार ने विभिन्न राज्यों के लिए 56.7 टन चावल सोचा है, इसी तरह अगले 3 महीने  15.6 टन गेहूं की आवश्यकता होगी, जिसके साथ ही सरकार ने अब तक 7.7 लाख टन गेहूं विभिन्न राज्यों से प्राप्त किया है।

एलपीजी बीपीएल गैस योजना :-

देश में इस आपदा को मद्देनजर रखते हुए, सरकार द्वारा किए गए 21 दिन के लॉकडाउन करने का निर्णय लिया गया था। इसके अंतर्गत गरीबों की स्थिति को देखते हुए, भारत सरकार के द्वारा आने वाले 3 महीने तक सभी बीपीएल परिवारों को तीन एलपीजी गैस सिलेंडर बिल्कुल मुफ्त में प्रदान की जाएंगी। योजना का लाभ लगभग 8.3 करोड लाभार्थी उठा सकेंगे, उज्जवला योजना के अंतर्गत 97.8 लाख सिलेंडर जरूरतमंदों को दी जाएगी।

3 माह का ईपीएफ देगी सरकार :-

कोरोनावायरस, एक वैश्विक महामारी के चलते केंद्र सरकार ने ईपीएफ अधिनियम 1952 के अंतर्गत सभी वर्गों को प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना और आत्मनिर्भर भारत योजना का लाभ प्रदान करने की घोषणा की गई. प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत आने वाले 3 माह तक भारत सरकार द्वारा इपीएफ कंट्रीब्यूशन केंद्र सरकार द्वारा किया गया, यानी  केंद्र सरकार द्वारा 24 फ़ीसदी कंट्रीब्यूशन कर्मचारियों के ईपीएफ खाते में किया जाएगा। जिसका नाम उन कंपनियों को मिलेगा, जिनमें 100 या उससे अधिक कर्मचारी कार्य कर रहे हैं। जहां कर्मचारियों का वेतन कम से कम 15,000 के आसपास होना चाहिए। लगभग 1,80,000 लोग लाभ उठा पाएंगे.

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना (राशन) :-

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के अंतर्गत देश के 80 करोड़ परिवारों को राशन सब्सिडी दी जाएगी, इसके अंतर्गत देश के लोगों को 3 महीने तक गेहूं ₹2 किलो और चांवल ₹3 प्रति किलो के डर से शासन दुकानों से प्राप्त होगा। इसके साथ देशवासियों में प्रोटीन की मात्रा बनाए रखने के लिए 1 किलो दाल भी हर महीने दी जाएगी. इसके अंतर्गत देश के लोगों को 3 महीनों तक गेहूं ₹2 चावल ₹3 की दर से राशन दुकान पर दी जाएगी। प्रधानमंत्री राशन सब्सिडी योजना के अंतर्गत देश के करीब 80 करोड़ परिवारों को 3 महीनों तक 7 किलो राशन सरकार द्वारा प्रदान की जाएगी। इस योजना के अंतर्गत 5.29 करोड़ लोगों को 2.65 लाख का राशन अब तक दिया जा चुका है। इस योजना के तहत देश के गरीब परिवार के हर सदस्य को 5 किलो गेहूं या फिर चांवल मुफ्त में दिया जाएगा। साथ में 1 किलो चने की दाल फ्री में दी जाती है, इसे प्रति माह हर परिवार को दिया जाता है। अब तक इसके अंतर्गत अप्रैल में 93% मई में 91% और जून में 71% लाभार्थियों को अनाज दिया जा चुका है, इसके लिए राज्य में अब तक के 116 लाख मीट्रिक टन अनाज केंद्र सरकार से प्राप्त किया है।

मनरेगा मजदूरों का वेतन :-

मनरेगा मजदूरों के अंतर्गत काम करने वाले मजदूरों का वेतन भी ₹182 से बढ़ाकर ₹202 कर दिया जाएगा। इसके अतिरिक्त ₹2000 अतिरिक्त आय के रूप में उन्हें प्रदान किए जाएंगे इस मजदूरी वृद्धि से लगभग पांच करोड़ परिवारों को लाभ मिलेगा।

दवाओं की होम डिलीवरी :-

संक्रमण की वजह से लोगों को घरों में बंद रखने की सलाह तो दी गई है लेकिन उनके सामने आवश्यकता पड़ने पर दवाइयों की कमी का आभास भी सामने आता है। जिसे कम करने के लिए सरकार ने दवाइयों की मुफ्त होम डिलीवरी को मंजूरी दे दी है यह प्रक्रिया 26 मार्च 2020 से शुरू कर दी गई है।

सरकारी कर्मचारियों को पूर्ण वेतन :-

सरकारी कर्मचारी चाहे केंद्र की हो या राज्य की सबको कोरोनावायरस की वजह से घर पर बैठने की हिदायत दी गई है ऐसे में उन्हें पूर्ण वेतन प्रदान किया जाएगा उनका कोई भी वेतन काटा नहीं जाएगा।

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना रजिस्ट्रेशन

देश के गरीब लोगों को इस योजना के अंतर्गत सब्सिडी पर राशन, सरकार द्वारा प्रदान की जाएगी। प्रधानमंत्री राशन सब्सिडी योजना के अंतर्गत लाभ प्राप्त करने के लिए पंजीकरण की प्रक्रिया नहीं होंगी। देश के जो व्यक्ति लाभ पाना चाहता है, योजना के अंतर्गत मुफ्त में 5 किलो गेहूं एवं चांवल प्राप्त कर सकता है। वह राशन की दुकान पर जाकर, अपने राशन कार्ड के जरिए पा सकता है, सब्सिडी पर राशन लेकर देश के गरीब लोग अपना जीवन निर्वहन कर सकते हैं।

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना टोल फ्री नंबर

इस योजना के लाभार्थीयों को लाभ प्राप्त करने में किसी प्रकार की परेशानी हो रही है, तो वे इस योजना के टोल फ्री नंबर पर कॉल करके सारी परेशानियां दूर कर सकते हैं. साथ उन्हें यदि अनाज प्रदान करने वाला व्यक्ति परेशां करता है. या अनाज नहीं देता है तो इसकी शिकायत भी इसी के माध्यम से कर सकते हैं. यह टोल फ्री नंबर क्या है ओर इसमें से आप शिकायत कैसे कर सकते हैं. इसकी जानकारी आप प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना टोल फ्री नंबर पर क्लिक करके प्राप्त कर सकते हैं.

केंद्रीय सरकार ने यह कदम उठाकर प्रत्येक राज्य सरकार को ₹31 करोड़ देने का ऐलान किया है जिसके अंतर्गत 3.5 करोड़ पंजीकृत श्रमिकों को वे घर बैठे सभी सुविधाएं प्रदान कर पाएंगे। इस योजना से बहुत सारे गरीब लोगों को काम ना करने पर भी भूखा नहीं मरना पड़ेगा क्योंकि वह आसानी से अपने लिए सुविधाएं प्राप्त कर पाएंगे तो सामाजिक दूरी बनाने में सक्षम हो पाएंगे। सामाजिक दूरी से ही कोरोनावायरस को हराने में सफलता मिल पाएगी.

FAQ

Q : प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना की घोषणा किसने की ?

Ans : प्रधानमंत्री के अध्यक्ष में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने

Q : प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के अंतर्गत किन लोगों को लाभ दिया जाएगा ?

Ans : शहर एवं गांव में रहने वाले गरीब वर्ग के लोगों को इसके अलावा प्रवासी श्रमिक एवं महिलाओं तथा सामाजिक स्तर पर पिछड़े हुए लोगों को.

Q : प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत लाभार्थियों को किस प्रकार का लाभ दिया जाएगा ?

Ans : मुफ्त राशन

Q : 2021 के बजट में प्रधानमंत्री कल्याण योजना के तहत कितना बजट आवंटित किया गया है ?

Ans : 26000 करोड़ रुपए.

Q : प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना 3.0 क्या है ?

Ans : गरीब लोगों के लिए तीसरा प्रोत्साहन पैकेज.

Other links –

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *