सेवा सेतु कार्यक्रम गुजरात 2018

सेवा सेतु कार्यक्रम गुजरात 2018 (Seva Setu Programme Gujarat in Hindi) डोरस्टेप डिलीवरी – सरकार की योजना अब आपके द्वार पर 

राज्य एवं केंद्र सरकार द्वारा देश में कई योजनाएँ चलाई जाती है. जिससे हर तरह का लाभ गरीब एवं जरुरतमंदों तक पहुँचाया जाता है. लेकिन उन योजनाओं का लाभ प्राप्त करते समय उन्हें कुछ समस्याओं का सामना करना पड़ता हैं, और इसके बारे में जानकारी सरकार को भी नहीं होती हैं. गुजरात राज्य सरकार ने 2 साल पहले गाँव में रहने वाले गरीबों की परेशानियों को सुनकर उसका समाधान करने के लिए एक कार्यक्रम जारी किया था, जिसका नाम है ‘सेवा सेतु कार्यक्रम गुजरात’. इसे अलग – अलग चरणों में पूरा किया जा रहा हैं. इसके बारे में जानकारी नीचे दी गई है.

Seva Setu Programme in Gujarat

लांच की जानकारी (Launched Details)

1. योजना का नाम सेवा सेतु कार्यक्रम गुजरात
2. लांच 5 नवंबर, 2016
3. घोषणा गुजरात मुख्यमंत्री श्री विजय रुपानी द्वारा
4. कुल चरण 4 (अब तक)
5. चौथे चरण की शुरुआत 24 अगस्त, 2018
6. देखरेख राज्य एवं केंद्र सरकार और एनजीओ’स
7. लाभार्थी गरीब एवं जरूरतमंद लोग
8. लक्ष्य गरीब एवं जरूरतमंद लोगों की परेशानियों को दूर करना

 

विशेषताएं (Features)

  • द्वार से द्वारा तक सुविधा (Door to door delivery) :- नागरिकों यह जानकारी प्राप्त करने के लिए किसी भी सरकारी कार्यलय में जाने की आवश्यकता नहीं है. इसके लिए राज्य सरकार के प्रतिनिधि लोगों के घर में जाकर उनकी परेशानियाँ पूछेंगे. यदि आपको सरकारी दस्तावेजों के साथ किसी प्रकार की सहायता की आवश्यकता है, तो आप उनसे इसके बारे में पूछ सकते हैं.
  • संपर्क में कमी के लिए सेतु :- राज्य सरकार की इस योजना का मुख्य उद्देश्य यह है कि ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्र के लोगों को आसानी से जानकारी एवं सुविधा उपलब्ध कराई जाये. इस कार्यक्रम के तहत लोग जानकारी प्राप्त कर मन में उठ रहे सवाल भी पूछ सकते हैं.
  • समस्या का समाधान :- एक बार सभी सरकारी प्रतिनिधि लोगों की परेशानियाँ सुनकर इकठ्ठी कर लें, इसके बाद वे इसे संबंधित विभाग में जमा कर देंगे. और अगले 118 दिन के अंदर इसका समाधान कर दिया जायेगा.
  • मुफ्त सेवा (Free) :- इस योजना के तहत दी जाने वाली सुविधा के लिए नागरिकों को किसी भी प्रकार का भुगतान नहीं करना पड़ेगा.
  • योजना को चरणों में लागू किया गया है :- राज्य सरकार द्वारा इस योजना को अलग – अलग चरणों में लागू किया गया है. अब तक इसके 3 चरण पूरे हो चुके हैं, और हालही में इसके चौथे चरण की शुरुआत की गई है.
  • महत्वपूर्ण पहल :- आम लोगों की सहायता एवं अच्छे शासन के लिए राज्य सरकार ने लोक दरबार, स्वागत ऑनलाइन, स्वागत, सेवा सेतु, अपनो तालुको विबरांत तालुको’ जन सेवा केंद्र और गरीब कल्याण मेला जैसी महत्वपूर्ण पहलों को भी लागू किया है.
  • कुल लाभार्थी :- एक जानकारी के अनुसार, लगभग 33.76 लाख गुजरात के नगरिकों को इस योजना के तहत सहायता प्रदान की जानी है.

चौथे चरण को लागू करना (Implementation of 4th Phase)

गुजरात राज्य सरकार द्वारा इस योजना के चौथे चरण को लागू करने के लिए आवश्यक व्यवस्था पूरी कर ली गई है. अब तक एक ही समय में ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंचना असंभव था. किन्तु अब इसे और भी ज्यादा आसान कर दिया गया है. अब राज्य सरकार द्वारा प्रत्येक तालुक में अस्थायी कैंप आयोजित किये जायेंगे, जो लोगों को उनकी समस्या का समाधान करने के लिए प्रोत्साहित करेंगे.

योजना के तहत दी जाने वाली सुविधाएँ (Services Available Under This Scheme)

इस योजना में दी जाने वाली सुविधाओं की सूची इस प्रकार है –

1. आय प्रमाण पत्र जारी करना
2. आधार कार्ड जारी करना
3. जाति प्रमाण पत्र जारी करना
4. राशन कार्ड एवं वोटर आईडी कार्ड जारी करना
5. वित्तीय बैकग्राउंड संबंधित दस्तावेज
6. जमीन और सम्पत्ति की सर्वे रिपोर्ट
7. एमए वात्सल्य कार्ड जारी करना
8. विधवाओं के लिए सहायता दस्तावेज
9. मुख्यमंत्री अमृतम कार्ड के लिए आवेदन
10. जननी शिशु सुरक्षा कार्यक्रम (जेएसएसपी) के लिए नामांकन
11. जननी सुरक्षा योजना (जेएसवाई) का लाभ प्राप्त करने के लिए आवेदन
12. समेकित बाल विकास योजना (एसबीवीवाई) के लिए आवेदन

 

योजना का प्रोजेक्ट (Projects of The Scheme)

  • आम सभा :- ये ऐसे विशेष कैंप होते हैं जो नियमित अन्तराल पर ग्रामीण क्षेत्रों में लगाये जाते हैं. यहाँ गाँव के कोई भी व्यक्ति अपनी परेशानी बता सकते हैं. यदि कोई भी व्यक्ति किसी भी विकासशील योजना की सुविधा प्राप्त नहीं कर पा रहे हैं, तो इसके लिए सरकारी प्रतिनिधि द्वारा आवश्यक कार्य किये जायेंगे. इसके अलावा ये कैंप नई विकासशील योजना के बारे में भी ग्रामीण लोगों को जानकारी देंगे, जोकि आने वाले समय में लागू होगी.
  • नागरिक सेवा :- नागरिकों को किसी भी समय कोई परेशानी का सामना करना पड़ सकता है. यदि उस समय वहां कैंप नहीं लगाये गये हैं, तो वे लोग सेवा सेतु सदस्यों द्वारा दिए गए विशेष हेल्पलाइन नंबर पर कॉल भी कर सकते हैं. वह उनकी परेशानियों को इकठ्ठा करके उनकी मदद करेंगे.
  • माताओं की देखभाल :- यह गर्भवती एवं स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए एक टेलेफ़ोनिक एवं ऑटोमेटेड वेब आधारित सेवा है. इसके तहत एंटे – नेटल, पोस्ट – नेटल चेक अप, टीकाकरण, आईएफए दवाइयों का सेवन आदि से जुड़ी सभी आवश्यक जानकारी महिलाओं को प्रदान की जाएगी. यह सेवा साप्ताहिक रूप से फोन कॉल और एसएमएस के माध्यम से सभी महिलाओं तक पहुंचाई जाएगी.
  • बच्चों की देखभाल :- इस कार्यक्रम का शुरुआती उद्देश्य यह भी है कि 2 साल से कम उम्र के बच्चों के पोषण की जाँच करना. इसके पहले चरण में यह पता लगाया जायेगा कि यदि कोई बच्चा कुपोषित हैं तो उस बच्चे के कद, वजन और शरीर की जाँच की जाएगी. और इसके दुसरे चरण में उन बच्चों को जो कुपोषण या अन्य परेशानियों से लड़ रहे हैं, उन्हें एनआरसी के लिए भर्ती किया जायेगा. यह प्रोजेक्ट यह सुनिश्चित करने के लिए है कि राज्य की आने वाली पीढ़ी स्वस्थ एवं मजबूत हो. यह बच्चों की मृत्यु दर को कम भी करेगी.
  • मेरी कहानी मेरी ज़ुबानी :- इस प्रोजेक्ट के तहत, सेवा सेतु कार्यक्रम की टीम उन असल व्यक्तियों से जुड़ेगी, जो सफलता प्राप्त करने के लिए सभी बाधाओं से लड़ते हैं. ये टीम उन लोगों की प्रेरणादायी और जानकारीपूर्ण कहानियों को उजागर करेगी. और ये कहानियां अन्य लोगों को प्रोत्साहित एवं प्रेरित करने में मदद करेगी.
  • पहल :- जैसा कि नाम से ही पता चलता है यह प्रोजेक्ट, सेवा सेतु कार्यक्रम के तहत, सरकारी सेवा सेतु प्रतिनिधियों को प्रत्येक तालुक के प्रमुख शासन संबंधी के साथ संपर्क में रहने में मदद करता है. एवं दोनों टीमों की सेनाएं मिलकर केन्द्रीय एवं गुजरात अधिकारीयों द्वारा शुरू की गई कई विकास योजनाओं को लागू करती है.

राज्य सरकार की इस योजना के चौथे चरण को शुरू करने से यह उम्मीद है कि पिछले 3 चरणों की सफलता के बाद इस चरण का भी सकारात्मक प्रमाण हासिल हो. इस प्रोजेक्ट के अनुसार दूरदराज में रहने वाले लोगों को अधिकारीयों के पास अपने आवेदन या शिकायतें जमा करने के लिए शहरों में जाने की चिंता करने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी. सेवा सेतु प्रतिनिधि इन क्षेत्रों तक खुद पहुंचेंगे एवं जानकारी इकठ्ठी करेंगे और वे इन ग्रामीण लोगों की तरफ से जरुरी कार्य भी करेंगे.

Other links –

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *