X

स्टार्टअप एग्री इंडिया स्कीम | Startup Agri India Scheme

स्टार्टअप एग्री इंडिया स्कीम | Startup Agri India Scheme

हमारे प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी शुरुआत से ही किसानों की आय आनेवाले सत्र 2022 तक दुगुनी करने की बात कहते आये है. हमारी केंद्र सरकार ने इसी दिशा में आगे बढ़ने के लिए एक कदम और आगे बढाने जा रही है. आशा करते है किसानों को लाभ पहुचाने के लिए पुरे देश में ऐसे प्रयास किये जायेंगे. इसी दिशा में पहल के लिए हाल ही में मोदी जी ने देश में स्टार्टअप एग्री इंडिया स्कीम शुरू करने की बात कही है.

इस योजना का उद्देश्य Objective of the Scheme:

इस योजना का प्रथम उद्देश्य आधुनिक प्रौद्योगिकी की सहायता से कृषि गतिविधियों को कम करना है. इसके अलावा इस योजना के द्वारा देश में नये स्थापित कृषि संबंधित उद्योगो को बढ़ावा भी दिया जायेगा.

इस बार कृषि मंत्रालय द्वारा आयोजित सम्मेलन में मोदी जी ने कृषि उद्योगो को बढ़ावा देने और इसकी आवश्यक्ता की और लोगो का ध्यान आकर्षित किया. इस सम्मेलन में स्टार्टअप एग्री इंडिया के अतिरिक्त मोदी जी ने राष्ट्र में खेती को बढ़ावा देने के लिए 4 अन्य नीतियों पर भी बात की.

मुख्य बिंदु key Features :

  • इस योजना के संबंध में सम्मेलन में मोदी जी ने आगामी समय में आईआईटी जैसे संस्थानों में बहुत सारी मीटिंग्स और कार्यशालाओ को आयोजित करने की बात कहीं . इन मीटिंग्स में इस योजना के संबंध में आगे कार्य करने के लिए निर्णय लिए जायेंगें.
  • प्रधान मंत्री जी ने देश में विभिन्न संस्थानों में पढ़ रहें छात्रों के सुझावों को देश की कृषि व्यवस्था में सुधार करने के लिए आमंत्रित किया है. उन्होंने कृषि संकाय से बी.एससी. करने वाले छात्रों को आगे मृदा टेक्‍नीशियन का कोर्स करने की सलाह दी है. क्युकी उनके हिसाब से आगे आने वाले समय में इनकें लिए बहुत मांग होगी.
  • मोदी ने यह भी कहा की किसानों द्वारा बनाये गये मृदा संरक्षण कार्ड द्वारा देश में रासायनिक उर्वरको का प्रयोग 10 प्रतिशत तक कम हुआ है. और इसके द्वारा कृषि उपज में 6 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है.

कृषि 2022 सम्मेलन में मोदी जी के भाषण में कही बातें Modi’s Speech in Conference on Agriculture 2022:

कृषि मंत्रालय द्वारा कृषि-2022 विषय पर दो दिवसीय सम्मेलन का आयोजन किया गया. इस सम्मेलन में कृषि, बैंकों, प्लानिंग और देश के आर्थिक क्षेत्रो से संबंधित लगभग 300 लोगो ने भाग लिया. इस सम्मेलन में प्रधानमंत्री जी ने खेती की लागत को कम करने, फसलों के लिए उचित मूल्य तय करने, किसानों के लिए कृषि के अलावा आय के अन्य स्त्रोत खोजने और कृषि अपशिष्टो का सही उपयोग करने के लिए रणनीतियों पर चर्चा की.

प्रधान मंत्री ने यह भी बताया कि उनकी सरकार पहले से टाल रही लगभग 99 कृषि योजनाओं को लागू करने की तैयारी में है. इसके लिए सरकार द्वारा 80 करोड़ का बजट रखा गया है. उन्होंने विद्यार्थियों के लिए मृदा टेक्‍नीशियन का कौर्स करने के बाद मृदा परिक्षण प्रयोगशाला खोलने की सलाह दी है, इसके लिए सरकार की तरफ से वित्तीय सहायता भी प्रदान की जाएगी.

आशा करते है की इन सभी घोषणाओ को जल्द ही लागू कर किसानों को लाभ प्रदान किया जायेगा, और प्रधान मंत्री के कहे अनुसार विद्यार्थी भी इस दिशा में अपना भविष्य बनाकर देश को सहायता प्रदान करेंगे.

Others –

Categories: Central
Editor :