हैसियत प्रमाण पत्र क्या होता है ? ऑनलाइन कैसे बनता हैं ? | How to Apply Haisiyat Praman Patra Online In Hindi

हैसियत प्रमाण पत्र क्या होता है ? कैसे बनता हैं ? ऑनलाइन एप्लिकेशन [पंजीयन ] फॉर्म (UP Haisiyat Praman Patra (Certificate) Online Application Form In Hindi ) haisiyat praman patra kaise banta hai

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राज्य के वासियों को एक अनोखा तौफा दिया है. प्रदेश में अब जिसको हैसियत प्रमाण पत्र चाहिए उसे राजस्व विभाग या किसी अन्य विभाग में चक्कर लगाने की जरुरत नहीं पड़ेगी। जिसको भी हैसियत प्रमाण पत्र चाहिए उसे उत्तर प्रदेश की इ डिस्ट्रिक्ट ऑफिसियल साइट में जाकर आवेदन करना होगा। योगी सरकार ने इसके अलावा जन्म, मृत्यु, आय एवं दिव्यांग पत्र के आवेदन के लिए भी ऑनलाइन सेवा शुरू की थी.

UP Haisiyat Praman Patra Application Form

नामहैसियत एवं विरासत प्रमाण पत्र ऑनलाइन आवेदन
लांच किया है उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ
तारीख28 अक्टूबर
अवसर

 

खागापुर में सदर तहसील का उद्घाटन करते समय 
लाभ  30 दिन के अंदर प्रमाण पत्र मिल जायेगा, विभागों के चक्कर नहीं लगाने पड़ेंगें

 

क्या होता है हैसियत प्रमाण पत्र (What is haisiyat praman patra)

हैसियत प्रमाण पत्र किसी भी नागरिक की संपत्ति की जानकारी रखने वाला पत्र होता है. इसके द्वारा सरकारी विभाग उस नागरिक की संपत्ति की जानकारी लेते और उसे प्रमाण पत्र देते है. यह प्रमाण पत्र कुछ जगह सरकारी कामों में जरुरी होता है. सरकारी ठेका, किसी तरह का कोई सरकारी टेंडर का काम करने से पहले सरकार हैसियत प्रमाण पत्र  मांगती है , जिसे देखने के बाद ही वह व्यक्ति उस टेंडर के लिए आवेदन कर सकता है.

बड़ी-२ बिल्डिंग बनाने वाले, सड़क निर्माण वाले ठेकेदार और भी अन्य काम होते है जहाँ सरकार इन कागजों की मांग करती है.

मुख्य बातें (Key features)

  • हैसियत प्रमाण पत्र के लिए सरकार से शुल्क भी तय किया है, जिसे आवेदक को देना होता हैं । ऑनलाइन फॉर्म भरने पर 100 रूपए+उपयोगकर्ता शुल्क आवेदक देना होगा। इसके अलावा जनसेवा केंद्र के द्वारा आवेदन करने पर आवेदक को 120 रूपये अदा करने होंगें। इन दोनों के अलावा अगर आवेदक उत्तर प्रदेश के सिटीजन पोर्टल के द्वारा आवेदन करता है तो उसे सिर्फ 110 रूपी अदा करने होंगें।
  • सरकार ने इससे जुड़े सभी अधिकारीयों को हिदायत दी है कि ऑनलाइन प्रमाण पत्र के आवेदन से 30 दिन के अंदर आवेदक को पत्र मिल जाना चाहिए।
  • एक व्यक्ति खुद अपनी हैसियत को जानने के लिए “निजी मूल्यवान” के आधार पर भी आवेदन कर सकता है, जिसे आयकर (आईटी) विभाग द्वारा प्रमाणित किया जायेगा|
  • उत्तर प्रदेश में रहने वाले सभी नागरिक जो अपने कुल संपत्ति का दस्तावेजी सबूत चाहते हैं, वे हैसियत प्रमाण पत्र के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकते है.

आवश्यक दस्तावेज (Required documents)

हैसियत प्रमाण पत्र में आवेदन के लिए कुछ दस्तावेज जरुरी होते है. इसके लिये आपको अपना आधार कार्ड, पैन कार्ड नंबर, अपने निवास के प्रमाण के लिए कोई दस्तावेज जैसे बिजली का बिल, आवेदक की पासपोर्ट साइज फोटो, अगर जमीन है तो भूमि की फोटो, अगर घर है तो उसकी फोटो, संपत्ति आपकी है इसके भी दस्तावेज, बैंक में राखी आपकी राशि को भी आप इसमें शामिल कर सकते है, इसके लिए बैंक की सभी जानकारी। ये सभी जानकारी आपको फॉर्म भरने से पहले अपने पास रखनी होगी।

आवेदन प्रक्रिया (Online application Form, Process)

  • हैसियत प्रमाण पत्र के ऑनलाइन आवेदन के लिए सबसे पहले आवेदक को http://edistrict.up.nic.in/ साइट पर जाना होगा।
  • यहाँ होम पेज पर आपको सिटीजन लॉगिन आइकन दिखाई देगा, जिस पर क्लिक करके आप एक नई पेज पर पहुंच जायेंगें।
  • सीधे हाथ की तरफ आपको “नवीन उपयोगकर्ता पंजीकरण” आइकॉन दिखाई देगा, जहाँ क्लिक करके एक फॉर्म खुल जायेगा। सीधा लिंक http://164.100.181.16/citizenservices/login/CitizenRegistration.aspx
  • इस फॉर्म में आवेदक की सारी जानकारी उसका नाम, जन्म तिथि,पता, पिन कोड, मोबाइल नंबर एवं ईमेल आईडी सही सही भरनी होगी।
  • सभी जानकारी अच्छे से चेक करने के बाद नीचे दिए हुए “सुरक्षित करें” बटन में क्लिक करें।
  • इसके बाद One time password (OTP) आपके दिए गए मोबाइल नंबर में आएगा। यह पहली बार लॉगिन करने के लिए पासवर्ड होगा।
  • लॉगिन करके के बाद पासवर्ड को बदल ले, और “आवेदन भरें” बटन पर क्लिक करें।
  • इसके बाद “सेवा चुनें” आइकॉन में हैसियत प्रमाण पत्र चुनें और नवीन आवेदन में क्लिक करें।
  • इसके बाद सारी जानकारी को अच्छे से पढ़कर “आगे बढ़ें” पर क्लिक करें। इससे हैसियत प्रमाण पत्र का ऑनलाइन एप्लीकेशन फॉर्म खुल जायेगा।
  • यहाँ आवेदक को संपत्ति से जुड़ी सारी जानकारी एवं दस्तावेज जमा करने होंगें जिसके बाद आवेदन की प्रक्रिया पूरी हो जाएगी।
  • इसके बाद आवेदक हैसियत प्रमाण पत्र का प्रिंट आउट निकाल ले और इसे संभाल के रखे.

आवेदन करने की तारीख के 30 दिनों के भीतर सभी आवेदकों को उनके हैसियत प्रमाण पत्र मिल जायेंगें। योगी ने कहा है कि ऑनलाइन आवेदन से आसानी से लोगों को सेवाएं मिलेगी और पारदर्शी तरीके से बिना किसी परेशानी और भय के अच्छे से सरल ढंग से लोग घर बैठे ये सभी प्रमाण पत्र प्राप्त कर सकते है.

अन्य पढ़े :

  1. प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना क्या है?
  2. मुफ्त बिजली योजना राजस्थान 
  3. प्रधानमंत्री आवास योजना ऑनलाइन फॉर्म डाउनलोड
  4. नि शुल्क शिक्षा योजना उत्तरप्रदेश 2018

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *