खेलो इंडिया युवा खेल प्रोग्राम 2020 [रजिस्ट्रेशन]

खेलो इंडिया युवा खेल प्रोग्राम [लिस्ट, रजिस्ट्रेशन, फॉर्म] Khelo India Youth Games (KIYG) 2020 in hindi [Registration Form, List, Venue, Result]  

खेलो इंडिया यूथ गेम्स प्रोग्राम का आगाज हो चूका है. खिलाड़ियों की प्रतिभा को नए मुकाम तक पहुंचाने के लिए सरकार ने खेलो इंडिया स्कीम को लॉन्च किया है. इस महत्वपूर्ण कदम से ओलिंपिक में भी भारत की रैंकिंग सुधारने की कोशिश की जा रही है. हालांकि इस योजना का मुख्य उद्देश्य ग्रामीण इलाकों के खिलाड़ियों को प्रोत्साहन एवं सुविधाओं की कमी को पूरा करना है.

भारत खेल के क्षेत्र में एक बहु प्रतिभाशाली देश है, लेकिन क्रिकेट और हॉकी के अतिरिक्त अन्य खेलों में अभी तक उच्च स्थान प्राप्त करने में भारत को सफलता हाथ नहीं लगी है.  हालांकि हमारे देश में प्रतिभा की कमी नहीं है, किन्तु खिलाड़ियों को उचित व्यवस्था के अभाव में अच्छा प्रदर्शन करना काफी चुनौतियों भरा होता है. इसलिए होने वाली विश्वस्तरीय प्रतियोगिताओं में उच्च श्रेणी हासिल करने में असफल साबित हो जाते है. इन सब समस्याओं के चलते भी कई भारतीय एथलीट काफी बेहतरीन प्रदर्शन करते है. खेलो इंडिया यूथ गेम्स में रजिस्ट्रेशन फॉर्म, गेम्स लिस्ट, रिजल्ट, टीम इन सबकी जानकारी आपको हमारे इस आर्टिकल में मिलेगी.

खेलो इंडिया khelo india

खेलो इंडिया प्रोग्राम की घोषणा ( Launch Date)

नामखेलो इंडिया युवा खेल 
खेलो इंडिया प्रोग्राम (पहला चरण)सितम्बर 2017
खेलो इंडिया युवा खेल (दूसरा चरण)दिसम्बर 2018
प्रतिभागीस्कूल, कॉलेज, युनिवर्सिटी के विद्यार्थी
 ऑनलाइन पोर्टलnsrs.kheloindia.gov.in/Login
लांच किया हैखेल मंत्रालय
मुख्य तारीख (Games dates)18 जनवरी से 30 जनवरी
2020 में कहाँ पर है (Venue)गुवाहाटी, असम
इनाम राशि (Reward)5 लाख रूपए और प्रशिक्षण , 8 वर्षों तक

खेलो इंडिया यूथ गेम्स 2020 से जुडी जानकारी (Khelo India Youth Games)

  • खेलो इंडिया प्रोग्राम कि सफलता के बाद इसका दूसरा चरण भी आ गया है, केन्द्रीय सरकार ने खेलो इंडिया यूथ गेम्स 2020 के लिए आवेदन प्रक्रिया शुरू कर दी है. सरकार ने इस बार खेल के क्षेत्र को बढ़ाते हुए, प्रतिभागियों को दो केटेगरी में रखा है
  1. पहली अंडर 17 (Under 17)
  2. दूसरी अंडर 21 (Under 21)
  • इसके साथ ही खेलो इंडिया यूथ गेम्स में इस बार कॉलेज और युनिवर्सिटी के छात्र भी हिस्सा ले सकते है.
  • खेल मंत्री राज्यवर्धन सिंह ने महाराष्ट्र में आयोजित प्रोग्राम में बताया है कि खेलो इंडिया यूथ गेम्स 2019 में दिल्ली में न होकर पुणे के श्री शिव छत्रपति काम्प्लेक्स में 9 जनवरी से 20 जनवरी के बीच होगा. यहाँ 10 हजार से ज्यादा प्रतिभागी 29 प्रदेश और 7 केंद्र शासित क्षेत्र से पहुचेंगें.
  • पिछले साल की तरह इस बार खेल का सीधा प्रसारण स्टार स्पोर्ट्स में रोजाना 8 घंटे होगा.
  • पिछले साल खेलो इंडिया प्रोग्राम में सरकार ने 1500 प्रतिभागी चयनित किये थे, जिन्हें 5 लाख रूपए इनाम राशी के साथ ट्रेनिंग भी दी गई थी.
  • खेलो इंडिया यूथ गेम्स राष्ट्रीय खेल का मुख्य उद्देश्य यही है कि देश में छुपी हुई प्रतिभा को सामने लायें और उन प्रतिभागियों को अन्तर्राष्ट्रीय स्तर के गेम्स जैसे कॉमनवेल्थ, एशियन गेम्स और यूथ ओलंपिक के लिए तैयार किया जा सके.
  • पिछले साल लगभग 3500 युवा खिलाडियों ने इस राष्ट्रीय खेल में हिस्सा लिया था, लेकिन इस साल 2019 में संख्या 3 गुना बढ़ गई है, और उम्मीद लगे जा रही है 10 हजार क उपर प्रतिभागी इस खेल पर्व का हिस्सा बनेगें.

खेलो इंडिया स्कीम की प्रमुख विशेषताएं  (Khelo India Program Information)

  1. किस वर्ष से होगी लागू – हालांकि इस योजना को 2017 से ही सरकार द्वारा लागू कर दिया गया है, लेकिन सरकार इस योजना को 2017-18 से 2019-20 तक और भी बढ़ावा देने के लिए कार्यरत है. जिसकी वजह से केवल एथलीटस को ही नहीं बल्कि देश में खेल का एक नया ढांचा बनाने की कोशिश की जा रही है.
  1. देश में खेलों को बढ़ावा देने के लिए – कुछ देशों के मुकाबले हमारे देश में एक या दो खेल छोड़कर बाकी खेलों में भविष्य कम दिखायी देता है. अगर ग्रामीणों की बात करें तो बहुत कम संख्या में लोग अपना करियर खेलों में बनाना चाहते है, और हमारे देश की प्रतिभा पूरी तरह सामने आने में विफल हो जाती है. इसके चलते देश की छवि अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर सुधरने में काफी धीमी है, इस प्रोग्राम के जरिये सरकार उन सभी एथलीट को बेहतरीन सुविधा देगी जो गरीब परिवारों से निकलकर खेलों में अपना भविष्य बनाना चाहते है. इस योजना की वजह से देश में खेलों के हालात बेहतर हो सकते है.
  1. इस योजना में शामिल होने वाले खिलाड़ियों की संख्या – भारतीय खेल मंत्रालय के द्वारा इसकी संख्या अभी हाल में 1000 ही निर्धारित की गयी है, जो कि सिर्फ क्षमता रखने वाले चुनिंदा खिलाड़ियों को प्रदान कराई जाएगी. जिसकी मदद से ये सभी खिलाड़ी अपने हुनर को एक नया मुकाम दे पायेंगे.
  1. स्कॉलर्शिप मिलने की समय सीमा – सरकार ने इस प्रोग्राम के तहत चुने जाने वाले खिलाडियों को यह स्कॉलर्शिप 8 वर्ष तक देने की व्यवस्था की है. देखा जाये तो यह समय किसी भी खिलाड़ी को अपने टैलेंट को सुधारने के लिए काफी है, किसी भी स्पोर्ट्स मैन के लिए यह योजना एक आधारशिला का काम करेगी.
  1. स्पोर्ट स्कॉलरशिप की व्यवस्था – यह स्कॉलरशिप खिलाड़ियों को उनकी खाद्य सम्बन्धी शारीरिक आपूर्ति एवं खेल सम्बन्धी उपकरणों की जरुरत पूरा करने के लिए दी जाएगी. इसके अंतर्गत 5 लाख तक की राशि हर वर्ष एक खिलाड़ी पर खर्च की जाएगी. 
  1. खिलाड़ियों के भविष्य को मजबूती देने हेतु – इस योजना के अंतर्गत सरकार ऐसे खिलाड़ियों को तैयार करेगी, जो देश को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर देश की प्रतिभा उजागर करने का दमखम रखते है, इसके लिए सरकार की तरफ से पैसे भी दिए जायेगे. हालांकि भारतीय सरकार का मुख्य लक्ष्य सिर्फ एथलीटस को ही प्रमोट करने का नहीं है बल्कि खेलों की अहमियत पूरे देश में फैलाना है.
  1. महिलाओं को समान अवसर प्रदान के लिए – इस स्कीम की सहायता से महिलाओं को बचपन से ही खेलों में भाग लेने के लिए हर तरह से मदद मिलेगी. इसमें लड़का और लड़की दोनों को उनके बचपन से ही अपनी प्रतिभा को निखारने का अवसर प्रदान होगा. इस प्रोग्राम से हमारे देश की बच्चियों को भी एक नयी पहचान मिलेगी.  
  1. प्रशिक्षण हेतू विश्वविद्यालय – मंत्रालय खेल प्रशिक्षण के लिए 20 विश्वविद्यालय का चयन करेगा, जोकि खेल प्रशिक्षण के साथ साथ शिक्षा सम्बन्धी पाठ्यक्रम भी चलाएगी अर्थात सरकार खिलाड़ियों को दोनों तरफ से लाभ पहुंचाने में कार्यरत है.
  1. यूथ को गलत भविष्य का चुनाव करने से रोकना – हमारे देश के बहुत से नौजवान सुविधाएं न होने की वजह से मजबूरी में अपनी प्रतिभा से हटकर अपना करियर चुनते है. ऐसा अक्सर ग्रामीण एवं पिछड़े इलाकों में अधिकतर देखने को मिलता है जिसकी वजह से देश और समाज दोनों पर असर पड़ता है. इतना ही नहीं देश के काम आने वाली यह प्रतिभा सामने ही नहीं आ पाती और ये नौजवान भी अपने भविष्य में कुछ अच्छा नहीं कर पाते. इसलिए सरकार इस स्कीम से यंगस्टर्स को सही रास्ते का चुनाव करने में मदद करेगी.
  1. प्रतिस्पर्धा की सोच को बढ़ावा देने के लिए  – केंद्र सरकार ऐसे विद्यालयों को चिन्हित करेगी, जो अपने यहाँ से अधिकतम बेहतरीन खिलाड़ी देश के लिए तैयार करके देंगे.
  1. तकनीकी का इस्तेमाल – भारतीय खेल मंत्रालय इस योजना को हर गांव तक पहुँचना चाहता है. इसके लिए मंत्रालय टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करके सरलता से ‘खेलो इंडिया प्रोग्राम’ पूरे देश में कोने कोने तक फैला सके.
  1. स्पोर्टस केंद्र की जगह पता करना  – इस अत्याधुनिक GIS तकनीकी के जमाने में किसी भी स्पोर्ट्स केंद्र की लोकेशन पता करना बेहद आसान है, जिसके फलस्वरूप जो भी खिलाड़ी प्रशिक्षण लेना चाहता हो अपने पास के केंद्र में जाकर प्राप्त कर सकता है. 
  1. सेंट्रल थीम का प्रचार – फिलहाल केंद्रीय सरकार “स्पोर्ट फॉर एक्सीलेंस ” और “स्पोर्ट फॉर ऑल” इन दो वाक्या का प्रचार काने में लगी हुयी है, “सब खेलो और सब बड़ो” इसी सोच को आगे बढ़ाते हुए सरकार देश में खेलों का स्तर सुधारने में लगी हुई है.

खेलो इंडिया  की पात्रता के लिए योग्यता (Khelo India Youth games Eligibility Criteria)

  • आयु – जो भी आवेदक स्पोर्ट स्कालरशिप पाने के लिए सरकार ने 8 वर्ष से लेकर 18 वर्ष के बीच ही निर्धारित की गयी है. अर्थात इस आयु सीमा के बाहर वाले आवेदक का आवेदन खेलो इंडिया प्रोग्राम के लिए अमान्य माना जायेगा.
  • खेलों से सम्बंधित आवेदक – इस स्कीम के अंतर्गत केवल वही आवेदक चुने जायेंगे जो खेलों से जुड़े होने के साथ अपनी प्रतिभा को सुधारना चाहते है.
  • निवास प्रमाण पत्र – इस प्रोग्राम से स्कॉलरशिप राशि प्राप्त करने के लिए आवेदक का ग्रामीण, पिछड़े और सुविधाओं से वंचित क्षेत्र का निवास प्रमाण पत्र होना जरुरी है.
  • एक आवेदक कितने खेल चुन सकता है? – भारत सरकार की नियमावली पत्रिका में एक आवेदक खिलाड़ी केवल एक ही खेल का चुनाव कर सकता है. अर्थात जो भी आवेदक इसका हिस्सा बनना चाहता है उसे अपना एक ही खेल में प्रशिक्षण देने का प्रावधान है.

खेलो इंडिया यूथ गेम्स ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया 2020 (Khelo India Youth Games Registration Forms 2020) –

  • खेलो इंडिया यूथ गेम्स में अपने को रजिस्टर करने के लिए आपको इसकी ऑफिसियल साईट पर जाना होगा, इसके लिए यहाँ क्लिक करें खेलो इंडिया रजिस्ट्रेशन पोर्टल.
  • साईट ओपन होने के बाद, बीच में रजिस्ट्रेशन पोर्टल में क्लिक करें,
  • यहाँ एक न्यू पेज खुलेगा, जहाँ खेलो इंडिया यूथ गेम्स के लिए रजिस्टर कर सकते है.
  • यहाँ 4 केटेगरी है, कोच, एथिलिट, मेनेजर और टेक्निकल ऑफिसियल. आप जिस भी केटेगरी से है, उसे क्लिक करें.
  • अगर आप पहली बार खेलो इंडिया के लिए रजिस्टर कर रहे है, तो पूरी जानकारी भरें, जिससे आप रजिस्टर हो सकें. अगर आपके पास पहले से लॉग इन आईडी है तो उसे उपयोग करते हुए लॉग इन करें.
  • सारी जानकारी सही भरने के बाद सबमिट कर दे.

खेलो इंडिया योजना के लिए बजट ( Budget of the Scheme)

अभी के लिए 500 करोड़ रु केंद्र सरकार द्वारा इस योजना को व्यवस्थित रूप से शुरू करने के लिए दिए गए है, इसमें से 130 करोड़ रु स्टेडियम और प्रशिक्षण केन्द्रो में खेल सम्बन्धी उपकरण जुटाने एवं रख रखाव करने के लिए दिए जाएंगे. जबकि 230 करोड़ रु सरकार देश में विभिन्न खेल प्रतियोगिताओं का आयोजन करने में खर्च करेगी. इसके अतिरिक्त सरकार द्वारा 100 करोड़ रु प्रतिभा को ढूढ़ने वाली समितियों को दिए जायेंगे जिसकी सहायता से वो खेल प्रतिभा सम्बन्धी प्रतियोगिताओं का आयोजन करा सकें, अगर पूरे बजट की बात की जाय तो सरकार ने 1756 करोड़ रु सन् 2017 से लेकर सन् 2020 तक के लिए खर्च करने की योजना बनाई है.

खेलो इंडिया योजना का निर्माण गरीब और पिछड़े क्षेत्रों में खेलों को प्रोत्साहन प्रदान करने हेतु किया जा रहा है. इस योजना की सहायता से सरकार भारत देश की प्रतिभा से पूरे विश्व को परिचय कराने की सोच रही है. खेलो इंडिया प्रोग्राम की मदद से उन खिलाड़ियों को मदद मिलेगी जो क्षमता होने के बाद भी पैसे या साधन न मिलने से पीछे रह जाते है. इस प्रोग्राम से खेलों में भारत की विश्व स्तरीय रैंकिंग तालिका में ऊपर जाने की सम्भावना की जा रही है.  इसके माध्यम से देश के सभी क्षेत्रो से प्रतिभा खोजने का अनुमान लगाया जा रहा है. खेलो इंडिया की सहायता से महिलाओं को भी खेलों में प्रोत्साहन दिया जायेगा. भारत सरकार के द्वारा यह कदम खेल क्षेत्र में सुधार के लिए उठाया है.

अन्य पढ़े:

One comment

  1. Sir me khelo india me admission lena chahta hu par me jis game ko lena hai us game ke bare me jankari nahi hai . Prayagraj

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *