X

प्रधानमंत्री मुद्रा लोन योजना ऑनलाइन फॉर्म 2018-19 [ब्याज दर, टोल फ्री नंबर]

प्रधानमंत्री मुद्रा लोन योजना ऑनलाइन कैसे अप्लाई करे [टोल फ्री हेल्प लाइन नंबर, ब्याज दर 2018-19] [Pradhan Mantri Mudra Loan Yojana in Hindi] Form, Subsidy, Eligibility, Documents, Interest Rate, Calculator, Website

छोटे एवं स्वतंत्र उद्यमियों को वित्तीय सहायता प्रदान कर उन्हें राहत की साँस लेने के लिए केंद्र सरकार ने  बहुत सी महत्वपूर्ण योजना की शुरुआत की है. यह योजना खुदरा, मैन्युफैक्चरिंग एवं ट्रेडिंग जैसे आर्थिक गतिविधियों के व्यापक स्पेक्ट्रम में लगे हुए लोगों के लिए बैंकिंग प्रणाली, लोन, बीमा जैसे वित्तीय उत्पादों तक पहुँच बनाने के लिए मददगार साबित होगी. इस लोन योजना में लोन 3 प्रकार से प्रदान किया जाता है, वे हैं शिशु लोन, किशोर लोन एवं तरुण लोन. इस योजना से जुड़ी सारी जानकारी हम आपको यहाँ इस आर्टिकल के माध्यम से दे रहे हैं. इसे अंत तक पढ़ें.

1.योजना का नामप्रधानमंत्री मुद्रा लोन योजना
2.योजना का लांचअप्रैल, 2015
3.योजना की शुरुआतप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा
4.योजना में लोन की राशि50,000 रूपये से 10 लाख रूपये तक
5.योजना के लाभार्थीछोटे व्यापारी
6.सम्बंधित विभागवित्त मंत्रालय
7.योजना का बजट20,000 करोड़ रूपये
8मुद्रा लोन टोल फ्री नंबर18001801111 और 1800110001
9मुद्रा लोन वेबसाइटmudra.org.in

 मुद्रा लोन के तहत लोन के लिए निर्धारित की गई स्टेज (Mudra Loan Stages)

  • शिशु :- इस स्टेज के तहत लोन की राशि 50 हजार रूपये तक की तय की गई है. यह स्टेज उन उद्यमियों के लिए है जोकि अपने प्रीमिटिव स्टेज में हैं या उन्हें व्यवसाय शुरू करने के लिए कम लागत की आवश्यकता है.
  • किशोर :- यह स्टेज उन उद्यमियों के लिए है जिन्हें 50,000 रूपये से लेकर 5 लाख रूपये तक की रेंज में लोन की आवश्यकता है. इसमें वे उद्यमी लोन ले सकते हैं जोकि पहले से ही बिज़नस चला रहे हैं और उसमें अतिरिक्त इन्वेस्ट करके बिज़नस को बढ़ाना चाहते हैं. इसके अलावा वे लोग जो बड़े स्तर पर अपना बिज़नस शुरू करने के बारे में सोच रहे हैं. वे भी इसमें शामिल हो सकते हैं.
  • तरुण :- इस स्टेज के अंतर्गत योग्य उम्मीदवारों को 10 लाख रूपये तक के लोन प्राप्त करने की अनुमति दी गई है. यह स्टेज उच्चतम स्तर के व्यवसाय को शुरू करने के लिए है.

मुद्रा लोन कैसे मिलेगा? (How to Apply For Mudra Loan)

  • सबसे पहले, योजना के अंतर्गत लोन देने वाले सूचीबद्ध बैंकों में से किसी भी बैंक में जाकर आवेदकों को मुद्रा लोन के लिए अप्रोच करना होगा.
  • फिर आपको अपने व्यवसाय से जुड़ी सारी जानकारी बैंक को प्रदान करनी होगी, जिसका उपयोग करके बैंक आपके व्यवसाय को इस योजना द्वारा निर्धारित की गई लोन की 3 स्टेज में से एक में डाल देगा.
  • इसके बाद आपको लोन के लिए मुद्रा लोन का फॉर्म भरना होगा. जैसे ही बैंक में चालू खाता खोला जायेगा आपके आवेदन की प्रक्रिया पूरी हो जाएगी.
  • इस योजना के तहत दिया जाने वाला लोन कोलैटरल फ्री लोन है. इसलिए इसे व्यापार के अच्छे क्रेडिट के इतिहास के साथ प्राप्त करना आसान है.

मुद्रा लोन की ब्याज दर (Interest Rate on Mudra Loan)

मुद्रा योजना के अनुसार ब्याज दरों की जानकारी यहाँ विस्तार से दी गई है, मुद्रा लोन की ब्याज दर एक बैंक से दुसरे बैंक में 11% से 18% तक अलग – अलग हो सकती है.

क्र. .मुद्रा लोन की स्टेजब्याज दर
1.शिशु स्टेज10% से 12% तक
2.किशोर स्टेज14% से 17% तक
3.तरुण स्टेज16% से शुरू होगी और अलग – अलग बैंकों में अलग – अलग हो सकती है. 

मुद्रा लोन के फॉर्म कैसे प्राप्त करें ? (How to Get Mudra Loan Form)

मुद्रा लोन वर्तमान में पूरी तरह से फंक्शनिंग बैंक नहीं है. लेकिन आने वाले भविष्य में यह भारत में पूर्ण बैंक में से एक होगा. इसके लिए फॉर्म प्राप्त करने की प्रक्रिया इस प्रकार है –

  • मुद्रा लोन के फॉर्म प्राप्त करने के लिए आप अपने क्षेत्र के किसी भी लेंडिंग फाइनेंस संस्थान या बैंक में विजिट कर सकते हैं.
  • अपने पास के किसी भी बैंक से लोन प्राप्त करने के लिए आपको अपने सभी आवश्यक दस्तावेज की आवश्यकता पड़ेगी. इसे आपको वहां जमा करना होगा.
  • इसके बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए आप इस लिंक http://www.mudra.org.in/ पर क्लिक कर सकते हैं. यहाँ आपको इसे जुड़ी सारी जानकारी प्राप्त हो जाएगी.

मुद्रा लोन प्राप्त करने के लिए योग्यता (Eligibility For Mudra Loan)

  • भारतीय नागरिक :- इस योजना में लोन प्राप्त करने के लिए आवेदक का भारतीय नागरिक होना आवश्यक है, क्योंकि अन्य बैंकों के विपरीत मुद्रा बैंक केवल भारतीय नागरिकों के लिए लोन प्रदान करता है.
  • सूक्ष्म एवं छोटे व्यवसायियों के लिए :- इस मुद्रा लोन योजना के तहत ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले लोगों को सूक्ष्म एवं छोटे व्यवसाय को शुरू करने के लिए लोन प्राप्त करने की अनुमति दी गई है.

मुद्रा लोन के लिए आवश्यक दस्तावेज (Required Documents For Mudra Loan)

  • पहचान का प्रमाण :- सभी आवेदकों को पहचान के प्रमाण के लिए वोटर आईडी, ड्राइविंग लाइसेंस, पैन कार्ड, आधार कार्ड एवं पासपोर्ट में से कोई भी प्रमाण देना आवश्यक है.
  • आवासीय प्रमाण :- आवेदकों को इस योजना के तहत अपने आवासीय या पते का प्रमाण देना भी आवश्यक है, इसके लिए वे टेलीफोन बिल, बिजली बिल एवं संपत्ति की आय की रसीद आदि दे सकते हैं.
  • व्यापार का पता या उसे स्थापित करने का प्रमाण :- आवेदकों को अपने व्यापार की जानकारी देना भी आवश्यक है कि उन्होंने नया व्यापार शुरू किया हैं या पुराना है.
  • आयकर रिटर्न :- बैलेंस शीट्स एवं यदि वे आयकर दाता है तो उन्हें पिछले 3 साल की आयकर या सेल्स टैक्स रिटर्न की रिपोर्ट देना आवश्यक है.
  • पार्टनर्स के लिए पार्टनरशिप डीड :- कंपनी में पार्टनर के लिए पार्टनरशिप डीड या लिखित प्रपोजल होना भी आवश्यक है.
  • स्टेटमेंट :- प्रमोटर्स और गारंटर्स की आयकर रिटर्न के साथ उनकी लेटेस्ट संपत्ति और लायबिलिटी का स्टेटमेंट एवं बैंक स्टेटमेंट देना आवश्यक है.
  • रेंटल अग्रीमेंट :- यदि व्यापार किराये पर हैं तो आवेदकों को रेंटल एग्रीमेंट के पेपर दिखाने होंगे.
  • एसएसआई / एमएसएमई रजिस्ट्रेशन :- यदि आपका व्यापार एसएसआई या एमएसएमई के तहत लागू हैं तो उसका फॉर्म लगेगा.
  • प्रोजेक्ट बेलेंस शीट :- यदि वर्किंग कैपिटल लिमिट है तो आने वाले 2 सालों के लिए प्रोजेक्ट बैलेंस शीट लगेगी. और 2 लाख या उससे अधिक के मामले में लोन लेने पर टर्म लोन की अवधि के लिए प्रोजेक्ट बैलेंस शीट भी लगेगी.    

मुद्रा लोन हेल्पलाइन टोल फ्री नंबर पर शिकायत करे (Mudra Loan Helpline Number)

क्रेडिट प्राप्त करने वाले लोगों की सहायता के लिए जिन्होंने पहले ही मुद्रा लोन योजना के लिए आवेदन किया है, सरकार ने उनके लिए एक हेल्पलाइन नंबर भी जारी किया है. सरकार ने उनके लिए 2 टोल फ्री हेल्पलाइन नंबर शुरू किये हैं वे 18001801111 और 1800110001 हैं, जोकि हफ्ते के सातों दिन और 24 घंटे ओपन रहेंगे. अतः इसमें आप कभी भी कॉल करके प्रधानमंत्री मुद्रा लोन योजना के बारे में जो भी जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं या प्रश्न पूछना चाहते हैं तो पूछ सकते हैं.

एसबीआई बैंक में मुद्रा लोन (Mudra Loan in SBI Bank)

छोटे पैमाने की इंडस्ट्रीज एवं माइक्रो यूनिट्स की मदद करने के लिए भारत का सबसे बड़ा बैंकिंग नेटवर्क एसबीआई, योग्य लाभार्थियों को उनके व्यापार को बढ़ाने के लिए उन्हें उपयुक्त लोन प्रदान करने में मदद करने के लिए प्रतिबद्ध है. योग्य लाभार्थी अपने पास के एसबीआई बैंक की ब्रांच में जाकर इसके लिए एप्रोच कर सकते हैं, और मुद्रा लोन योजना का फॉर्म प्राप्त कर सकते हैं.

जब आप एक बार एसबीआई बैंक से मुद्रा लोन प्राप्त कर लेते हैं तो यहाँ लोन के पुनर्भुगतान की अवधि 5 साल होगी, जिसमें 6 महीने की मोरेटोरियम अवधि भी शामिल है. स्टेट बैंक द्वारा 50,000 रूपये से 10 लाख रूपये तक की लोन राशि पर 0.5 प्रतिशत लो प्रोसेसिंग शुल्क लिया जाता है. इस प्रकार, यदि वे आवेदक जो 50,000 रूपये तक की राशि के लिए एसबीआई बैंक में मुद्रा लोन के लिए आवेदन करते हैं तो उन्हें कोई भी प्रोसेसिंग फीस नहीं देनी होगी.

महिलाओं के लिए मुद्रा लोन (Mudra Loan For Women)

इस योजना में महिलाओं के लिए विशेष लाभ प्रदान किये गये हैं. सरकार द्वारा सिर्फ महिला आवेदकों को मुद्रा क्रेडिट के लिए विशेष बजट आवंटित करने का फैसला किया है. इस योजना में आवेदन करने के साथ ही महिला आवेदक व्यक्तिगत रूप से या पार्टनरशिप के रूप में खुद का व्यवसाय शुरू कर सकती हैं. वे इसके लिए सलून, हेंडीक्राफ्ट एवं टेलरिंग यूनिट जैसे छोटे व्यवसाय शुरू कर सकती है.

एक अनुमान से पता चला है कि अब तक 1.8 लाख करोड़ के लोन का वितरण किया जा चूका है और देश में मुद्रा क्रेडिट धारकों में 70 प्रतिशत महिलाएं है. जिन्होंने यह प्राप्त किया है और यह आंकड़ा आने वालों सालों में बढ़ता जायेगा.

एसटी, एससी और ओबीसी के लिए मुद्रा लोन (Mudra Loan For SC ST and OBC)

इस योजना में एसटी, एससी एवं ओबीसी केटेगरी के लाभार्थियों को शामिल करने का भी लक्ष्य रखा गया है. इस योजना का लाभ उठाने के लिए इन लाभार्थियों को मुद्रा लोन के आवेदन फॉर्म के साथ अपना एसटी, एससी या ओबीसी जाति का प्रमाण पत्र जमा करना होगा. सरकार की एक रिपोर्ट के अनुसार भारत में 20 प्रतिशत लाभार्थी एससी केटेगरी के, 5 प्रतिशत लाभार्थी एसटी केटेगरी के और 35 प्रतिशत ओबीसी केटेगरी के लोग हैं, जो इस मुद्रा लोन का लाभ उठा रहे हैं.

मुद्रा बैंक योजना के द्वारा कवर किये गये क्षेत्र (Which Sectors will be Covered by Mudra Bank Yojana ?)

शुरुआत में इस प्रधानमंत्री मुद्रा बैंक योजना ने कुछ चुने हुए क्षेत्रों का लक्ष्य तय किया है, जिसमे शामिल होने वाले क्षेत्र भूमि परिवहन, कपड़ा उत्पाद, खाद्य उत्पाद और सामाजिक, व्यक्तिगत एवं सामुदायिक सेवाएं आदि है. बाद में योजना की सफलता के अनुसार और भी क्षेत्रों को इसमें शामिल किया जा सकता है. लेकिन यह जल्द ही नहीं हो सकता, इसे बढ़ाने के लिए कम से कम कुछ साल और लगेंगे.

मुद्रा लोन और व्यक्तिगत लोन में अंतर (Mudra Loan vs Personal Loan)

  • मुद्रा लोन एक विशेष लोन हैं जोकि केवल व्यापारियों या व्यापार में उपयोग करने के लिए ही उपलब्ध हो सकता है. जबकि व्यक्तिगत लोन यूनिवर्सल टाइप का लोन है जोकि व्यक्ति की वित्तीय जरूरतों को संतुष्ट करने के लिए उपलब्ध हो सकता है.
  • मुद्रा लोन भारत सरकार द्वारा शासन के तहत हैं जिसमे 10 लाख रूपये तक की राशि प्राप्त करने की सीमा तय है. जबकि व्यक्तिगत लोन पब्लिक एवं प्राइवेट दोनों ही बैंकों में उपलब्ध होता है. इसका मतलब यह है कि इसमें लोन की कोई सीमा नहीं होती है. यह बैंक प्रबंधन द्वारा तय किया जाता है.
  • मुद्रा लोन में ब्याज दर 10 से 16 प्रतिशत तक ऑफर की जाती है, और ब्याज दर बैंक के, लोन केटेगरी के एवं लोन राशि के ऊपर निर्भर करती है. जबकि इसके स्थान पर व्यक्तिगत लोन में ब्याज दर 11 से 22 प्रतिशत तक चार्ज की जाती है. जोकि बैंक की पालिसी पर निर्भर करती है.
  • इस योजना में मुद्रा कार्ड के माध्यम से लोन क्रेडिट होता है. जो बैंकों से आवेदकों के लिए विशेष रूप से दिया जाता है. वहीँ दूसरी तरफ व्यक्तिगत लोन राशि आवेदकों के व्यक्तिगत अकाउंट में क्रेडिट होती है.

इस प्रकार यदि प्रधानमंत्री मुद्रा बैंक योजना सफल होती है तो आने वाले वर्षों में देश की पूरी अर्थव्यवस्था में बढ़ोत्तरी होगी. और भारत को दुनिया में सबसे शक्तिशाली अर्थव्यवस्थाओं में से एक के रूप में उभरने में मदद मिलेगी.

अन्य पढ़े :

  1. मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना ऑनलाइन फॉर्म उत्तर प्रदेश
  2. मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना उत्तर प्रदेश 
  3. मुख्यमंत्री स्वरोजगार सब्सिडी योजना मध्यप्रदेश 
  4. अंतरजातीय विवाह योजना हरियाणा
Categories: Central
Tags: Loan
Editor :