प्रधानमंत्री आवास योजना शहरी लिस्ट (सूची) 2021 | Pradhan Mantri Awas Yojana 2021 Urban (PMAY – U) in Hindi

प्रधानमंत्री आवास योजना – शहरी लिस्ट 2020 ऑनलाइन आवेदन फॉर्म, सब्सिडी लोन राशि स्टेटस चेक   (Pradhan Mantri Awas Yojana – Urban (PMAY – U) in Hindi) PDF, Guideline, Eligibility Criteria,Online Application Form , List, Website, FAQ

अगर हम शहर की बात करें तो आजादी के बाद से अब तक में हमारे देश में सभी बड़े एवं छोटे शहरों में बहुत अधिक विकास हुआ है, किन्तु फिर भी बहुत सी जगह पर गरीबों के पास शहरी इलाकें में रहते हुए भी पक्के मकान जैसी सुविधा नहीं है. ऐसे लोगों की मदद करने के लिए सरकार ने प्रधानमंत्री आवास योजना – शहरी क्षेत्र के लिए भी शुरू की है. आइये इस योजना की विशेषताएं एवं इससे क्या – क्या लाभ और कैसे प्राप्त कर सकते हैं यह सब कुछ नीचे इस लेख में जानने की कोशिश करते हैं.

Pradhan Mantri Awas Yojana - Urban In Hindi

नामप्रधानमंत्री आवास योजना – शहरी (पीएमएवाई-यू)
लांचसाल 2015 – 16
घोषणाप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा
शुरुआतनवंबर, 2016
संबंधित विभागहाउसिंग एवं शहरी मंत्रालय
लाभार्थीशहर में रहने वाले गरीब लोग

प्रधानमंत्री आवास योजना – शहरी के लाभ क्या हैं ?

गरीबों को सहायता :-

इस योजना के माध्यम से सरकार ऐसे गरीब व्यक्ति जोकि शहरी इलाके में रहते हुए कच्चे मकान एवं झोपड़ियों में निवास करते हैं. साथ ही जिनके घर में बिजली, पानी जैसी सुविधा नहीं है एवं वे गंदगी भरे क्षेत्र में निवास करते हैं और ऐसे मकान में रहते हैं जो कि गलत तरीके से बना हुआ है. उन्हें सब्सिडी के रूप में सहायता दी जा रही है.

5 साल की लोक – इन अवधि :-

इस योजना के अंर्तगत बनने वाले घर के लिए केन्द्रीय सरकार ने 5 साल की लोक – इन अवधि निर्धारित की है, यानि कि घर बनने के बाद किसी भी व्यक्ति को अगले 5 सालों तक अपना घर एवं संपत्ति को विक्रय करने का अधिकार नहीं है.

प्रधानमंत्री आवास योजना शहरी के नियम एवं शर्ते क्या हैं ?

इस योजना में 3 तरीकों से अलग – अलग आय समूह के आधार पर लाभार्थियों को लाभ प्रदान किया जा रहा है, जोकि इस प्रकार है –

  1. क्रेडिट लिंक सब्सिडी योजना :-

इस योजना के अंर्तगत एक क्रेडिट लिंक सब्सिडी योजना भी चलाई जा रही है, जिसके माध्यम से झोपड़ियों में रहने वाले गरीब लोगों को झोपड़ियों के स्थान पर सस्ते और पक्के घर उपलब्ध करायें जा रहे हैं. इसके भी निम्न आय समूह के आधार पर लाभ प्रदान किया जा रहा है –

मुख्य बिंदु –

  • ऐसे व्यक्ति जो आर्थिक रूप से कमजोर हैं या फिर वे कम आय वाले समूह के अंतर्गत आते हैं उन्हें 20 साल की अवधि के लिए 6.5 % की ब्याज दर से लोन प्रदान किया जा रहा है, जोकि विभिन्न वित्तीय संस्थानों या बैंकों द्वारा लाभार्थियों को उनका स्वयं का घर बनवाने के लिए हैं.
  • यह सुविधा केवल 6 लाख रूपये तक का लोन प्राप्त करने के लिए दी गई है. यदि इससे ज्यादा किसी व्यक्ति द्वारा लोन लिया जाता है, तो उसका ब्याज उन्हें वर्तमान में चल रही ब्याज दर के आधार पर ही चुकाना होगा.
  • इस योजना के तहत लाभार्थियों को जो घर उपलब्ध कराएँ जा रहे हैं, उसमें रसोई, बिजली, पानी, शौचालय जैसी सभी सुविधाएँ मौजूद हैं. इसके साथ ही घर का कुल एरिया आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के लिए 30 वर्ग मीटर एवं कम आय वाले लोगों के लिए 60 वर्ग मीटर का निर्धारित किया गया है. यदि लाभार्थी इससे ज्यादा एरिया में घर बनवाना चाहता है तो वह भी बनवा सकता है लेकिन सब्सिडी केवल 6 लाख रूपये तक की लोन राशि पर ही मिलेगी.
  • वहीँ अगर इस योजना में मध्यम आय वाला व्यक्ति जोकि एमआईजी – 1 की श्रेणी में आता है, शामिल होता है, तो वह 160 वर्ग मीटर तक की जगह में घर बना सकता है. और एमआईजी – 2 श्रेणी में आने वाला व्यक्ति 200 वर्ग मीटर तक की जगह में घर बना सकता है.
  • इस योजना में एमआईजी – 1 श्रेणी में आना वाला व्यक्ति 20 साल की अवधि के लिए 4 % ब्याज दर के साथ 9 लाख रूपये तक की लोन राशि प्राप्त कर सकता है. और एमआईजी – 2 श्रेणी वाला व्यक्ति 3 % की ब्याज दर के साथ 12 लाख रूपये तक की लोन की राशि प्राप्त कर सकता है.
  • इस योजना में विभाग द्वारा लाभार्थी के खाते में मासिक किश्त की राशि काटकर बाकी सब्सिडी के पैसे तभी ट्रान्सफर किये जाते हैं, जब वह लोन का पूरा ईएमआई लोन खाते के माध्यम से वित्तीय संस्थान या फिर बैंक में जमा कर देता है.
  • इस योजना में ऐसा परिवार जिसमें घर की मुखिया एक महिला हैं या फिर घर के मुखिया के रूप में पति या पत्नी दोनों का नाम संयुक्त रूप से हैं, उन्हें यह लाभ प्रदान किया जा रहा है किन्तु यदि किसी परिवार में कोई बालिग महिला नहीं है तो ऐसी स्थिति में इस योजना में पुरुष सदस्य का नाम शामिल हो सकता है.
  1. पार्टनरशिप के माध्यम से सस्ते घर :-

शहरी क्षेत्र में शुरू की जाने वाली प्रधानमंत्री आवास योजना का तीसरा भाग पार्टनरशिप के माध्यम से लाभार्थियों को सस्ते घर दिलवाना है. इसमें लगभग 35 % ऐसे आर्थिक रूप से कमजोर व्यक्तियों के घरों को वित्तीय सब्सिडी प्रदान की जा रही है, जोकि अलग – अलग राज्यों एवं शहरों के साथ पार्टनरशिप में बनाए जा रहे हैं. और लाभार्थियों को इसमें 1.5 लाख रूपये तक की वित्तीय सहायता प्रदान की जा रही है.

  1. ‘इन – सीटू स्लम’ का पुनः विकास :-

इन – सीटू स्लम का अर्थ होता है मुख्य वास्तविक स्थान. इस योजना के तहत शहरी क्षेत्र के सरकारी या निजी जमीन में रहने वाले लोग जो कच्चे मकानों या झोपड़ियों में रहते हैं उन्हें उन झोपड़ियों के स्थान पर आधुनिक सुविधाओं जैसे बिजली, पानी, शौचालय आदि से युक्त बेहतर घर उपलब्ध करायें जा रहे हैं और यह निजी संस्थानों की भागीदारी के साथ किया जा रहा है. और इससे झोपड़ियों का भी फिर से विकास हो रहा है. इसमें निजी संस्थानों का चयन राज्य सरकार द्वारा किया गया है.

मुख्य बिंदु –

  • इस योजना का लाभ लाभार्थी तक आसानी से पहुंचे इसके लिए सभी राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों की सरकारों द्वारा अतिरिक्त फ्लोर एरिया रेश्यो और फ्लोर स्पेस इंडेक्स आदि के अधिकार प्रदान किये जा रहे हैं.
  • इस योजना के तहत झोपड़ियों के स्थान पर पक्का घर का निर्माण करने के लिए सरकार की ओर से लाभार्थियों को 1 लाख रूपये तक का वित्तीय लाभ प्रदान किया जा रहा है.
  • इस योजना में लाभार्थियों को जो घर दिए गये है या जहाँ पर वे अपने घर का निर्माण कर रहे हैं वह जगह पट्टे वाली होगी, जिस पर लाभार्थी का पूर्ण स्वामित्व होगा.
  • जिस समय लाभार्थियों के घर का निर्माण कार्य चल रहा है उस दौरान लाभार्थियों को रहने के लिए आवास की सुविधा भी प्रदान की जा रही है, जिसकी देखरेख प्राइवेट डेवलपर्स द्वारा की जा रही है.

इस योजना के 2 घटक हैं, पहला झोपड़ियों का पुनः विकास कर उन्हें घर उपलब्ध कराना और दूसरा मुफ्त बिक्री, जिसमें जो स्लम डेवलपर्स हैं, वे घरों को खुले बाजार में बेचने के लिए समर्थ हैं.

अतः इस सभी तरीकों से इस प्रधानमंत्री आवास योजना – शहरी से लोगों को लाभ मिल रहा है.

प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ कौन ले सकता है

आर्थिक रूप से कमजोर :-

इस योजना में अलग – अलग आय समूह के लोगों को शामिल किया गया है जिनकी स्थिति आर्थिक रूप से कमजोर है और उनकी सालाना आय 3 लाख रूपये से कम है वे इसमें पात्र हैं. और उन्हें इस योजना में दी जाने वाली सभी प्रकार की सुविधा का लाभ प्राप्त हो रहा है.

कम आय वाले लोग :-

ऐसे परिवार जिनकी सालाना आय 3 लाख से 6 लाख रूपये के बीच में है, उन्हें इस योजना में सिर्फ और सिर्फ क्रेडिट लिंक सब्सिडी योजना का ही लाभ प्रदान किया जा रहा है.

मध्यम आय वाले लोग :-

इस योजना में ऐसे परिवार जिनकी सालाना आय 6 से 12 लाख रूपये यानि जो एमआईजी – 1 वाले परिवार है, एवं 12 से 18 लाख रूपये वाले यानि जो एमआईजी – 2 वाले परिवार है, उन्हें भी इस योजना में केवल क्रेडिट लिंक सब्सिडी योजना का लाभ मिल रहा है.

परिवार के सदस्य :-

इस योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए लाभार्थी के परिवार में पति – पत्नी जोकि घर के मुखिया हैं, साथ में बेटे या बेटी जिनकी शादी नहीं हुई है, शामिल हो सकते हैं.

अन्य पात्रता :-

इस योजना में पात्रता के लिए सबसे बड़ी शर्त यह रखी गई है कि योजना के लाभार्थी या उसके परिवार के किसी भी सदस्य के नाम पर कोई अन्य पक्का मकान रजिस्टर्ड नहीं होना चाहिए.

प्रधानमंत्री आवास योजना – शहरी के लिए आवश्यक दस्तावेज कौन से हैं ?

आय प्रमाण पत्र या एफिडेविट :-

इस योजना के लाभार्थी को यह साबित करने के लिए कि वह आय सीमा की किस श्रेणी में आता है, उसे स्वयं का एक आय प्रमाण पत्र या फिर एफिडेविट जमा करना होता है.

लोन एप्लीकेशन :-

यदि लाभार्थी इस योजना के अंर्तगत लोन प्राप्त करना चाहता है तो उसे लोन एप्लीकेशन भी देनी होगी.

पहचान पत्र :-

किसी भी योजना या फिर कहीं भी आवेदन करने से पहले पहचान पत्र दस्तावेज की आवश्यकता सबसे ज्यादा होती हैं. वैसे ही यहाँ पर भी लाभार्थी को अपने पहचान के लिए आधार कार्ड या फिर अन्य पहचान दस्तावेज की कॉपी जमा करना आवश्यक है.

पासपोर्ट साइज़ फोटो :-

पीएम आवास योजना का आवेदन फॉर्म भरते समय आपको आपकी पासपोर्ट साइज़ फोटो की भी आवश्यकता पड़ेगी. तो आप कम से कम 2 फोटो अपने साथ अवश्य रखें.

प्रधानमंत्री आवास योजना – शहरी के लिए आवेदन कैसे करें ?

प्रधानमंत्री आवास योजना में आवेदन करने के लिए ऑफलाइन एवं ऑनलाइन दोनों ही प्रक्रिया सरकार ने शुरू की है. यह जानने के लिए नीचे दिए हुए बिन्दुओं पर ध्यान दीजिये –

ऑफलाइन माध्यम से :-

  • इस योजना में शामिल होकर आप यदि खुद का घर बनवाना चाह रहे हैं तो आप सबसे पहले अपने सभी दस्तावेजों को साथ में रखें और पास के लोक सेवा केंद्र में जायें.
  • वहां जाने के बाद आप संबंधित अधिकारी से इस योजना में आवेदन करने के लिए फॉर्म प्राप्त करें और उसे भरें. और उसके साथ अपने दस्तावेजों को भी अटैच कर फॉर्म को जमा कर दें.
  • फॉर्म को जमा करने के बाद आपको अधिकारी द्वारा एक आवेदन की रसीद प्राप्त होगी जिसमें आपकी आवेदन की संख्या लिखी हुई होगी उसे आप संभाल कर रखें.

आपको बता दें कि आपको फॉर्म को भरने के लिए 25 रूपये का शुल्क जमा करना पड़ सकता है. इस तरह से आपका इस योजना में आवेदन पूरा हो जायेगा.

ऑनलाइन माध्यम से –

  • ऑनलाइन माध्यम से इस योजना में आवेदन करने के लिए प्रधानमंत्री आवास योजना शहरी ऑफिसियल पोर्टल पर क्लिक करें.
  • यहाँ पहुँचने के बाद आपके सामने कुछ विकल्प होंगे जहाँ से आपको ‘सिटीजन असेसमेंट’ में जाकर अपने अनुसार विकल्प पर क्लिक करना होगा.
  • यहाँ से आप अगले पेज पर पहुँचेंगे जहाँ आपको अपना आधार कार्ड और अपना नाम इंटर करना होगा. और फिर चेक बटन पर क्लिक करना होगा.
  • इसके बाद आपकी स्क्रीन पर एक आवेदन फॉर्म खुल जायेंगे यही आपका इस योजना में आवेदन करने के लिए आवेदन फॉर्म होगा.
  • इस फॉर्म को आप सही से भरें और इसमें मांगे गए दस्तावेजों को भी इसमें अटैच करें और अंत में सबमिट बटन पर क्लिक करें.
  • फिर आपकी स्क्रीन पर आपके आवेदन की एक स्लिप ओपन होगी जिसमे आपका आवेदन क्रमांक होगा उसे आप सुरक्षित करके रख लें. क्योंकि इस योजना के लाभार्थी सूची में आपका नाम चेक करने के लिए इसकी आवश्यकता पड़ सकती है. और इस तरह से ऑनलाइन माध्यम से आपका इस योजना में आवेदन पूरा हो जायेगा.

प्रधानमंत्री आवास योजना शहरी की लिस्ट 2020 कैसे देखें ?   

एक बार आपने आवास योजना में आवेदन कर दिया उसके बाद जब आपको इसके लाभार्थियों की सूची में अपना नाम चेक करना हो तो आप इसके लिए निम्न बिन्दुओं को अपनाएं –

  • यदि आपने इसमें ऑफलाइन आवेदन किया है तो इसके लिए आपको अपनी आवेदन रसीद लेकर अपने पास के लोक सेवा केंद्र में जाना हैं और वहां से आपको लाभार्थियों की सूची मिल जाएगी जहाँ से आप अपना नाम चेक कर सकते हैं.
  • और यदि आपने इसमें ऑनलाइन आवेदन किया है तो इसके लिए आप सबसे पहले इसकी अधिकारिक वेबसाइट https://pmaymis.gov.in/# में जाएँ.
  • उसके बाद यहाँ पर आपको सिटीजन असेसमेंट के विकल्प में जाकर ‘ट्रैक योर असेसमेंट स्टेटस’ विकल्प पर क्लिक करना होगा.
  • यहाँ पर आप अपने नाम, पिता का नाम एवं मोबाइल नंबर देकर स्टेटस चेक करने का विकल्प चुन सकते हैं, या फिर अपनी असेसमेंट आईडी के माध्यम से भी स्टेटस चेक करने का विकल्प चुन सकते हैं.
  • दोनों में से किसी भी एक का विकल्प चुनने के बाद आपसे कुछ जानकारी मांगी जाएगी उसे देकर आप सबमिट बटन पर क्लिक करें. और फिर आपके सामने लाभार्थियों के नाम की सूची खुल जाएगी जिसमे आप अपना नाम चेक कर सकते हैं.

इस तरह यह योजना शहरी क्षेत्रों में रहते हुए झोपड़ियों में रहने वाले लोगों को पक्का घर प्रदान करने के लिए शुरू की गई है. ताकि देश में सभी के पास पक्के मकान हो और झोपड़ियों का भी पुनः विकास हो.

FAQ

1.प्रधानमंत्री शहरी आवास योजना टोल फ्री नंबर क्या हैं ?

उत्तर. 1800-11-3377, 1800-11-3388 एवं 1800-11-6163

2.प्रधानमंत्री शहरी आवास योजना ऑनलाइन पोर्टल कौन सा हैं ?

उत्तर. pmaymis.gov.in

3. प्रधानमंत्री आवास योजना शहरी की शिकायत कैसे करें ?

उत्तर. टोल फ्री नंबर पर कॉल करके अपनी बात कह सकते हैं ।

4. क्या प्रधानमंत्री योजना मौजूदा होम लोन उधारकर्ताओं के लिए उपलब्ध है?

उत्तर अगर पात्रता नियम के अंतर्गत आते हैं तो वे लोन ले सकते हैं ।

अन्य पढ़े

  1. YSR Rythu Bharosa Scheme AP List
  2. मुख्यमंत्री कृषि आशीर्वाद योजना झारखण्ड
  3. प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण न्यू लिस्ट
  4. बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना

One comment

  1. Nice

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *