एमपी पंख योजना अभियान -बेटियों के अपराधियों को मिलेगी कड़ी सजा, जानिए क्या है यह अभियान

एमपी पंख योजना 2021 अभियान क्या हैं, उद्देश्य, लाभ, लाभार्थी, पंजीयन फॉर्म, टोल फ्री हेल्पलाइन नंबर, पोर्टल MP Pankh Abhiyan for Health / Education / Security of Girls to realize vision of women empowerment,

मध्य प्रदेश में 24 जनवरी 2021 को राष्ट्रीय बालिका दिवस के उपलक्ष में मध्य प्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान ने एमपी पंख योजना का शुभारंभ किया। इस योजना का शुभारंभ बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना के तहत किया है। इस योजना का मुख्य उद्देश्य बालिकाओं के सशक्तिकरण एवं विकास में सहायता प्रदान करना है। बालिकाओं के सशक्तिकरण एवं विकास के लिए साल 2008 से ही प्रत्येक वर्ष राष्ट्रीय बालिका दिवस मनाया जाता है। लड़कियों के लिए है दिन इसलिए बनाया गया था कि लड़कियों के लिए समाज में होने वाली ऐसा मानता है एवं अत्याचारों के बारे में जागरूकता फैलाई जा सके। चलिए लड़कियों के लिए जारी किए गए एमपी पंख योजना के बारे में विस्तारपूर्वक जान लेते हैं।

एमपी पंख योजना अभियान 2021 जानकारी

नामएमपी पंख योजना
तिथी24 जनवरी 2021
दिवसराष्ट्रीय बालिका दिवस
लांच किसने कीमध्य प्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान
लाभार्थीएमपी की बालिकाये
लाभबालिका विकास
टोल फ्री हेल्पलाइन नंबरनहीं हैं
वेबसाइट / पोर्टलनहीं हैं
आवेदन फॉर्म एवं प्रक्रियाअभी नहीं हैं

एमपी पंख योजना 2021 क्या हैं

मध्य प्रदेश सरकार द्वारा जारी की गई बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना के तहत एमपी मांग की योजना के अंतर्गत कुछ महत्वपूर्ण बिंदुओं को ध्यान में रखा गया है। PANKH शब्द की परिभाषा कुछ महत्वपूर्ण बिंदुओं में दी गई है। यह सभी बिंदु लड़कियों को जोड़कर जारी किए गए हैं जो निम्नलिखित हैं:-

  • P – Protection
  • A – Awareness of their rights
  • N – Nutrition
  • K – Knowledge
  • H – Health

एमपी पंख योजना 2021 अंतिम तिथी

यह योजना 24 जनवरी 2021 को मध्य प्रदेश मुख्यमंत्री द्वारा प्रारंभ कर दी गई है जो अगले साल 24 जनवरी 2022 तक चलेगी।

मध्य प्रदेश पंख योजना जनधन योजना के अंतर्गत पंजीकृत लड़कियों के लिए एक संरक्षण जागरूकता पोषण ज्ञान और स्वास्थ्य संबंधित एक राज्यस्तरीय कार्यक्रम है। यह योजना लड़कियों के जीवन में आने वाली रहे सभी बाधाओं को दूर करने में मदद करेगा जो लड़कियों को अपने जीवन में आजादी के साथ पंख फैलाने एवं उड़ने में बाधा प्रकट करते हैं। यह योजना लड़कियों को पंख देगी और उन्हें खुले आसमान में उड़ने को प्रोत्साहन करेगी। इस योजना के तहत मध्य प्रदेश सरकार उन लोगों को पूरी तरह से खत्म कर देगी जो लड़कियों के खिलाफ अपराध करते हैं तथा ऐसे लोगों की समाज में संपत्ति ही नष्ट कर दी जाएगी। लड़कियों के साथ होने वाले अपराधों के लिए समाज में मिसाल कायम करने वाली कड़ी सजा उन लोगों को दी जाएगी।

पंच योजना के माध्यम से महिला सशक्तिकरण

मध्य प्रदेश मुख्यमंत्री ने बताया कि लड़कियों को ना केवल जुडो और कराटे जैसी आत्मरक्षा का ही नहीं बल्कि उन्हें हथियार भी दिए जाने चाहिए ताकि वे जरूरत पड़ने पर अपना बचाव कर सकें। उन्होंने यह भी बात कही कि न्याय प्रणाली में सुधार की आवश्यकता है जिससे यदि किसी लड़की के साथ बलात्कार होता है तो उस व्यक्ति को मृत्यु दंड दिया जाए। पंख योजना के माध्यम से सरकार लड़कियों की सुरक्षा एवं स्वास्थ्य तथा शिक्षा सुनिश्चित करने के साथ-साथ महिला सशक्तिकरण को भी बढ़ावा देना चाहती है। मुख्यमंत्री ने अपने बयान में यह भी कहा कि ओटीटी प्लेटफॉर्म ऊपर अश्लील सामग्री के प्रदर्शन की जांच करनी चाहिए और नए कानून प्रावधान बनाने चाहिए ताकि युवाओं के दिमाग पर प्रतिकूल प्रभाव पड सके।

आयोजन के दौरान मुख्यमंत्री ने विदिशा की महिला को संबोधित करते हुए बधाई भी दी जिसने अपने पति के खिलाफ शिकायत दर्ज की जिसने अपनी बेटी के साथ बलात्कार किया था। उस महिला की शिकायत पर उस आदमी को जेल भेज दिया गया तथा उस महिला को आर्थिक सहायता भी प्रदान की गई। उन्होंने यह उदाहरण प्रस्तुत करते हुए सभी महिलाओं को बहादुर बनने के लिए प्रोत्साहित किया।

एमपी पंख अभियान में स्वास्थ्य, शिक्षा एवं सुरक्षा

एमपी पंख अभियान के द्वारा लड़कियों के अंदर आत्मविश्वास को पुनर्जीवित करने की योजना चलाई जाएगी। इस योजना के तहत अगले 2 महीने के लिए पहले से ही तैयारी कर ली जाएगी कि किस प्रकार लड़कियों को स्वास्थ्य शिक्षा एवं सुरक्षा से संबंधित मदद दी जाए।

लड़कियों एवं महिलाओं के कल्याण के लिए मध्यप्रदेश सरकार ने जो भी कदम उठाया है भारत के प्रत्येक राज्य में उठाया जाना चाहिए। क्योंकि आज के समय में इस तरह के कदम महिलाओं के लिए उठाए जाने बेहद आवश्यक है। 1990 में शिवराज सिंह चौहान ने विधायक बनने के बाद अपने दोस्तों की मदद से सामूहिक विवाह का आयोजन किया था। बाद में जब वे मध्य प्रदेश के सीएम बने तब उनकी सरकार ने लाडली लक्ष्मी कन्यादान और गांव की लाडली जैसी महत्वपूर्ण योजनाओं का शुभारंभ किया। लड़कियों के लिए ऐसे कदम सरकार कदम कदम पर उठाती रहती है। महिला सशक्तिकरण के रूप में भी उन्होंने एक मिशन जारी किया जिसके लिए हर किसी को काम करना होगा ऐसा सीएम ने अपने बयान में कहा। छात्रवृत्ति की घोषणा भी सीएम ने की और लाडली लक्ष्मी योजना के अंतर्गत 26099 लड़कियों को 6.47 करोड़ रुपए की राशि आवंटित की।

समाज को अधिक समावेशी बनाने के लिए बालिकाओं का उत्थान

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने समाज में रहने वाली बालिकाओं के उत्थान के लिए काफी सारे आयोजन किए हैं और योजना भी तैयार की है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के सहित अन्य नेताओं ने भी बालिका दिवस की अवसर पर अपनी इच्छाओं को व्यक्त किया है। उन्होंने राष्ट्रीय बालिका दिवस पर ट्वीट भी किया और जिसमें कहा कि अपनी देश की बेटी और विभिन्न क्षेत्रों में उपलब्धियों को सलाम करते हैं। केंद्र सरकार ने हर बार यह पहल की है कि बालिकाओं को सशक्त बनाने पर ध्यान  अधिक दिया जाए और महिलाओं को शिक्षा का प्राथमिक अधिकार तथा स्वास्थ्य सेवाएं भी दी जाए।

बालिकाओं को सशक्त बनाने के लिए प्रत्येक राज्य एवं केंद्र की सरकार समय-समय पर बालिका उत्थान योजनाओं को लाने का काम करते हैं। हमें सरकार की सराहना करना चाहिए और यह सुनिश्चित करना चाहिए कि महिलाओं को सम्मान एवं सही अवसर प्राप्त हो सके।

FAQ

Q- मध्य प्रदेश पंख योजना के अंतर्गत क्या कोई वित्तीय राशि प्राप्त होगी?

A- नहीं

Q- लड़कियों के लिए MP PANKH योजना की क्या परिभाषा दी गई है?

P– Protection
A– Awareness of their rights
N– Nutrition
K– Knowledge
H– Health

Q- एमपी पंख अभियान किस दिन प्रारंभ किया गया?

A- 24 जनवरी 2021 राष्ट्रीय बालिका दिवस के उपलक्ष में

Q- एमपी पंख योजना का महत्वपूर्ण उद्देश्य क्या है?

A- बालिकाओं की सुरक्षा, शिक्षा, स्वास्थ्य एवं उनके सशक्तिकरण पर ध्यान केंद्रित करना.

Q- राष्ट्रीय बालिका दिवस मनाने की शुरुआत कब की गई थी?

A- 2008

Other Link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *